कांवड़ियों के लिए कांवड़ बना रहे मुस्लिम परिवार

हरिद्वार

कांवड़ मेला तीर्थनगरी हरिद्वार में भगवान शिव कर भक्ति के साथ भाईचारे का भी संदेश देता नजर आता है. मेले के दौरान शिवभक्त कांवड़ियों की कांवड़ को भारी संख्या में मुस्लिम समाज तैयार करता है. मुस्लिम परिवार के बच्चों को बचपन से कांवड़ बनाने का काम विरासत में मिलता है. कांवड़ बनाने के काम में परिवार के बुजुर्ग से लेकर महिलाएं और बच्चे दिन-रात शामिल जुटे रहते हैं.

हरिद्वार में शुरू हाे चुके कांवड़ मेले में आपसी भाईचारे की मिसाल देखी जा सकती है. कांवड़ियों के कंधों पर आप जिन सजी कांवड़ों को देखते हैं, उनको बड़ी संख्या में मुस्लिम समाज के लोग बनाकर बेचते हैं. पिछले कई दशकों से 25 से ज्यादा मुस्लिम परिवार हरिद्वार में कांवड़ बना रहे हैं.

इस संबंध में हिन्दुस्थान समाचार को गुरुवार को कारीगरों सलमान व आरिफ ने बताया कि वे लोग कई वर्षों से इस काम को करते आ रहे हैं. कांवड़ बनाना भाईचारे का काम है. इससे कांवड़ियों की सेवा का भी मौका मिलता है. मुस्लिम समाज के इन कारीगरों के अनुसार इससे न केवल उनका रोजगार चलता है बल्कि कांवड़ बनाना उनके लिए बडे़ शबाब का काम है.

कांवड़ बनाने का काम पुरुष ही नहीं मुस्लिम महिलाएं भी बड़ी शौक और सहयोग से करती हैं. कांवड़ बनाने वाली महिलाओं का कहना है की वे सब रोजे में रहकर भी कांवड़ बनाते हैं. भोले के लिए कांवड़ बनने से उनके मन को शांति मिलती है. कार्य पूरा होने पर कांवड़ को ज्वालापुर से हरिद्वार बेचने के लिए मुस्लिम परिवार आते हैं.

हिन्दुस्थान समाचार/रजनीकांत

1 thought on “कांवड़ियों के लिए कांवड़ बना रहे मुस्लिम परिवार”

Leave a Reply

%d bloggers like this: