मुख्तार अब्बास नकवी का जन्मदिन आज, हिन्दुस्थान समाचार के उपाध्यक्ष विशाल सिन्हा ने दी शुभकामनाएं

15.
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

नई दिल्ली. केंद्रीय मंत्री अल्पसंख्यक मंत्रालय मुख़्तार अब्बास नकवी (Mukhtar Abbas Naqvi ) आज अपना 63 वां जन्मदिन मना रहे हैं. इस मौके पर मुख़्तार अब्बास नकवी को नेताओं समेत कई लोगों से शुभकामना संदेश मिल रहे है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने नकवी को जन्मदिन की शुभकामनाएं दी है. पीएम मोदी (Pm Modi) ने ट्वीट करते हुए उनके सेहतमंद और दीर्घायु जीवन की कामना की है.

मुख़्तार अब्बास नकवी को हिंदुस्थान समाचार समूह के उपाध्यक्ष विशाल सिन्हा (Vishal Sinha) ने जन्मदिन की बधाई दी है. विशाल सिन्हा ने उनके दीर्घायु और स्वस्थ जीवन की कामना की है. मुख्तार अब्बास ने हमेशा से ही हिंदुस्थान समाचार समूह की भूरि-भूरि प्रशंसा की है और शुभकामनाएं दी है.

इस मौके पर रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने नकवी को बधाई देते हुए कहा, “ बीजेपी के वरिष्ठ नेता एवं केंद्रीय मंत्रिमंडल में हमारे साथी श्री मुख्तार अब्बास नकवी को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं.

मुख्तार अब्बास नकवी बीजेपी के वरिष्ठ नेता है और उनका जन्म 15 अक्टूबर 1957 को उत्तर प्रदेश के इलाहबाद में हुआ. नकवी भारतीय जनता पार्टी (BJP)  के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रह चुके हैं और वर्तमान में वो भारत सरकार में अल्पसंख्यक मामलों के कैबिनेट मंत्री हैं. उन्होने अपनी शिक्षा इलाहाबाद विश्वविद्यालय से प्राप्त की. नकवी कभी इंदिरा गांधी को चुनाव में हराने वाले समाजवादी नेता राजनारायण के करीबी थे और उनके प्रभाव में सोशलिस्ट हुआ करते थे. बाद में वो बीजेपी में शामिल हो गए.

नकवी ने पहले बीजेपी के टिकट पर मऊ जिले की सदर विधान सभा सीट से दो बार विधानसभा पहुचने की कोशिश की पर असफल रहे. सन 1991 मे वे मात्र 133 मतों से सीपीआई के इम्तियाज अहमद से चुनाव हार गए. उसके बाद साल 1993 के विधानसभा चुनावों में बीएसपी के नसीम ने लगभग 10000 मतों से उन्हें चुनाव हरा दिया.

1998 में रामपुर से लोकसभा का चुनाव लड़ा और जीत गए, ये पहली बार हुआ था कि कोई मुस्लिम चेहरा भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी के रूप में चुनकर पहली बार संसद पहुँचा था. वे अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में केंद्रीय सूचना और प्रसारण राज्य मंत्री भी बन गए वो दो किताबें स्याह और दंगा भी लिख चुके हैं.