मुकेश अंबानी नहीं बल्कि कंपनी ने रिश्तेदारों की सैलरी में की बढ़ोतरी

  • 2008 में आखिरी बार मुकेश अंबानी की सैलरी में बढ़ोतरी देखने को मिली थी
  • कंपनी की तरफ से जारी की गई रिपोर्ट के मुताबिक उनकी सालाना सैलरी 15 करोड़ रुपए है

नई दिल्ली. देश के सबसे अमीर शख्स मुकेश अंबानी ने लगातार 11वें साल अपनी सैलरी में कोई इजाफा नहीं किया है. 2008 के बाद से ही उनका सैलरी पैकेज 15 करोड़ रुपए पर स्थिर है. 2008 में आखिरी बार मुकेश अंबानी की सैलरी में बढ़ोतरी देखने को मिली थी.

कंपनी ने जारी की रिपोर्ट-

कंपनी की तरफ से जारी की गई रिपोर्ट के मुताबिक उनकी सालाना सैलरी 15 करोड़ रुपए है.जिसमें कमीशन, अलाउंस, अन्य जैसे सभी लाभ शामिल हैं. मुकेश अंबानी को 2018-19 में 4.45 करोड़ रुपए सैलरी और अलाउंस के तर पर, कमीशन 9.53 करोड़ रुपए और अन्य लाभ 31 लाख रुपए और रिटायरमेंट लाभ के तौर पर 71 लाख रुपए मिले थे.

मुकेश अंबानी से ज्यादा इनकी सैलरी-

कंपनी की सालाना रिपोर्ट में कहा गया है कि प्रबंधन के स्तर पर वेतन कम रखने की व्यक्तिगत मिलाव पेश करने की इच्छा को जारी रखते हुए मुकेश अंबानी ने वेतन नहीं बढ़ाया है.मुकेश अंबानी के इस फैसले के बाद उनकी सैलरी से ज्यादा कंपनी में उनके रिश्तेदारों की सैलरी है.ऐसा इसलिए भी क्योंकि बोर्ड में मौजूद उनके रिश्तेदारों की सालाना सैलरी में इजाफा किया गया है.

कजिन की सैलरी में हुई बढ़ोतरी-

नीता अंबानी से लेकर उनकी कजिन निखिल और हितल मेसवानी तक की सैलरी में बढ़ोतरी हुई है.कंपनी ने निखिल और हितल मेसवानी के पैकेज को बढ़कर 20.57 करोड़ रुपए तक कर दिया गया है. जबकि इन दोनों की ही सैलरी 2017-18 में 16.58 करोड़ रुपए थी.

निखिल की सैलरी-

निखिल की सैलरी साल 2015-16 में 14.25 करोड़ रुपए तक थी.जबकि हितल मेसवानी का पैकेज इसी साल 14.41 करोड़ रुपए तक का था.वहीं साल 2014-15 में दोनों का पैकेज 12.03 करोड़ रुपए था.

नीता अंबानी की सैलरी-

अब बात अगर मुकेश अंबानी की पत्नी और गैर-कार्यकारी निदेशक नीता अंबानी की जाए तो उन्हें, सिटींग फीस के तौर पर 7 लाख रुपए और कमीशन के तौर पर 1.65 करोड़ रुपए मिले हैं.जो कि 2017-18 में 6 लाख और 1.5 करोड़ रुपए था.

अरूंधति भट्टाचार्य की सैलरी-

एसबीआई की पूर्व चेयरपर्सन अरूंधति भट्टाचार्य को मिलने वाले कमीशन और फीस में भी इजाफा किया गया है. भट्टाचार्य को 75 लाख रुप कमीशन और 7 लाख रुपए बोर्ड की बैठक में शामिल होने के तौर पर मिला है. उन्हें 17 अक्टूबर 2018 को रिलायंस इडस्ट्रीज के नॉन-एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर के तौर पर शामिल किया गया था.

एग्जिक्यूटिव निदेशक की सैलरी-

कंपनी के एग्जिक्यूटिव निदेशक पी एम एस प्रसाद के पैकेज में भी बढ़ोतरी की गई है. पी एम एस प्रसाद का साल 2018-19 में 10.01 करोड़ रुपए हो गया है.जो कि साल 2017-18 में 8.99 करोड़ रुपए तक था. रिफाइनरी चीफ पवन कुमार को 4.17 करोड़ कुमार को 4.17 करोड़ रुपए मिले जो कि साल 2017-18 में उनका पैकेज 3.47 करोड़ रुपए तक था.

Trending Tags – Business News | Mukesh Ambani | Reliance Industries | Economy News | Aaj ka Samachar

Leave a Comment