मूडीज ने दिया भारत को एक और झटका, स्थिर से नेगेटिव कर रेटिंग दिया ये हवाला

नई दिल्ली. अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर मोदी सरकार के एक के बाद एक कदम उठाने के बाद भी कामयाबी हाथ नहीं लगी है. हर दिन तेजी से देश की अर्थव्यवस्था का हाल बेहाल होता जा रहा है. देश मंदी की चपेट में जा रहा है. इन सब झटकों के बीच मूडीज ने मोदी सरकार को एक और जोरदार झटका दे दिया है.

मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने भारत की रेटिंग पर अपना परिदृश्य बदलते हुए इसे स्थिर से नकारात्मक कर दिया है. एजेंसी ने कहा कि पहले के मुकाबले आर्थिक वृद्धि के बहुत कम रहने की आशंका है.

Moodys ने विदेशी-मुद्रा एवं स्थानीय मुद्रा रेटिंग की पुष्टि करते हुए भारत की रेटिंग निगेटिव कर दिया है. जिससे ये साफ होता है कि देश तेजी से मंदी की ओर बढ़ रहा है. आर्थिक मंदी की ओर लंबे समय तक चिंताएं रहेंगी साथ ही देश में कर्ज का बोझ बढ़ता जा रहा है.

रेटिंग एजेंसी ने एक बयान में कहा, परिदृश्य को नकारात्मक करने का मूडीज का फैसला आर्थिक वृद्धि के पहले के मुकाबले काफी कम रहने के बढ़ते जोखिम को दिखाता है.

मूडीज के पूर्व अनुमान के मुकाबले वर्तमान की रेटिंग लंबे समय से चली आ रही आर्थिक एवं संस्थागत कमजोरी से निपटने में सरकार एवं नीति के प्रभाव को असफल होते हुए दिखाई देती है.जिस कारण पहले ही उच्च स्तर पर पहुंचा कर्ज का बोझ धीरे-धीरे और बढ़ सकता है.

मूडीज के इस कदम के बाद भारत के ऊपर दबाव बढ़ गया है. आर्थिक सुस्ती को दूर करने के लिए सितंबर में सरकार ने कॉरपोरेट टैक्स में कटौती करके बूस्ट करने की कोशिश की थी.लेकिन सरकार का ये फैसला बुरी तरह से असफल रहा है. इस कदम से भी मंदी के बादल नहीं छठे.

सरकार को अपने घाटे को कम करने के लिए और कर्ज के बोझ को कम करने के लिए कड़ी मशक्कत करनी पड़ेगी.क्योंकि हर दिन आते नये आकंड़े भारत को मंदी की ओर तेजी से ले जा रहे हैं.

Leave a Comment

%d bloggers like this: