मॉनसून का फाइल फोटो
  • मौसम विभाग के अनुसार दिल्ली-एनसीआर, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, पंजाब और चंडीगढ़ में मानसून सामान्य रह सकता है
  • एजेंसी की ओर से देश के चार हिस्सों में बारिश का आकलन जारी किया गया है

नई दिल्ली. भारतीय मौसम विभाग से उलट निजी क्षेत्र की कंपनी स्‍काईमेट ने कहा कि इस साल मॉनसून सामान्‍य से कम रहेगा. एजेंसी ने कहा कि इस साल मानसून सामान्य का 93 फीसदी रह सकता है.

बता दें कि मौसम विभाग के अनुसार दिल्ली-एनसीआर, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, पंजाब और चंडीगढ़ में मानसून सामान्य रह सकता है.

वहीं, स्काईमेट ने 4 जून तक मॉनसून के केरल तट पर पहुंचने की संभावना जताई है. हालांकि स्‍काईमेट ने कहा कि अलनीनो की वजह से आगे चलकर मॉनसून की रफ्तार सुस्त पड़ सकती है. एजेंसी ने कहा कि भारत में समय पर मानसून दस्तक देने का मतलब ये नहीं है कि अच्छी बारिश होगी.

मॉनसून का फाइल फोटो

सामान्य से कम बारिश की संभावना

आमतौर पर मॉनसून के 1 से 5 जून तक केरल पहुंचने को सही वक्त माना जाता है. लेकिन इस साल जून से सितंबर के दौरान मॉनसून सीजन में सामान्य से कम बारिश की संभावना जताई जा रही है.

पूर्वी भारत में 92 फीसदी बारिश की संभावना

एजेंसी की ओर से देश के चार हिस्सों में बारिश का आकलन जारी किया गया है. इसके मुताबिक पूर्वी और मध्य भारत में कम बारिश की संभावना जताई गई है. पूर्वी भारत में 92 फीसदी बारिश की संभावना है, जो सामान्य से कम है. वहीं, उत्तर भारत में अच्छी बारिश की उम्मीद जताई गई है, जबकि गुजरात, पश्चिमी मध्य प्रदेश, बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल में कमजोर बारिश की संभावना जाहिर की है.

Trending Tags- News Today | Monsoon News in India | Monsoon Forecast 2019 | Monsoon News Today