प. बंगालः कोलकाता हवाई अड्डे पर ‘मोबाइल कमांड पोस्ट’ चालू

Kolkata Airport
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

कोलकाता, प. बंगाल।

आपातकालीन स्थितियों को अधिक कुशल और समन्वित तरीके से संभालने की क्षमताओं को बढ़ाने के अपने प्रयासों के रूप में, भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण, ने कोलकाता हवाई अड्डा पर एक अत्याधुनिक ‘चलंत कमांड पोस्ट (SCP) की सुविधा शुरुआत की है.

यह एक अनुकूलित, पूरी तरह से सुसज्जित मजबूत वाहन है, जो हवाई अड्डे की आपात स्थिति के लिए एक दृश्य कमान, समन्वय और संचार केंद्र के रूप में सेवा करने के लिए विशेष उपकरणों के साथ तैयार किया गया है, जहां समन्वय एजेंसियों के प्रमुख/प्रतिनिधि जानकारी प्राप्त करने और प्रसारित करने एवं आपाती प्रचालन से जुड़े निर्णय लेने के लिए एकत्र होते हैं.

इसमें एक कम्पार्टमेंट है, जिसमें स्थल पर उपयोग के लिए कई सुविधाएं उपलब्ध हैं. आठ व्यक्तियों के साथ एसी वातावरण में स्थल पर राउंड टेबल बैठक किया जा सकता है. प्रोजेक्टर के साथ एक डिजिटल बोर्ड पर प्रस्तुति दी जा सकती है. चार घंटे के लिए बिजली बैकअप प्रदान करने के लिए जनरेटर है. 500 मीटर स्पष्ट दृश्यता का पीटीजेड कैमरा, जिसे एक किमी तक बढ़ाया जा सकता है.

फुटेज को एलईडी मॉनिटर (42 इंच) पर कम्पार्टमेंट के अंदर देखा जा सकता है. अंदर के केबिन के लिए एक डोम कैमरा भी प्रदान किया गया है. और 2 घंटे के बैकअप के लिए यूपीएस भी प्रदान किया गया है. एटीसी फ्रीक्वेंसी की निगरानी और साइट की उचित रोशनी के लिए वीएचएफ सेट के साथ नोमेटिक मास्ट लाइट्स (250 वाट प्रत्येक सेट) के चार सेट वहां मुहैया है.

वॉकी टॉकी, ब्लूटूथ कनेक्टिविटी और मेगाफोन क्षेत्र उपलब्ध के साथ कॉर्डलेस माइक के साथ पीए सिस्टम भी उपलब्ध है. रेस्क्यू टीम को सपोर्ट करने के लिए 120 मीटर रेंज के नाइट विजन दूरबीन, चार फोल्डेबल स्ट्रेचर, 10 साइनबोर्ड और दो टेंट भी उपलब्ध हैं. वाटर डिस्पेंसर और वॉश बेसिन, तीन पोर्टेबल शेल्टर टैंक उपलब्ध कराए गए हैं.

हवाई अड्डे के बचाव और अग्निशमन सेवाएं, विमान दुर्घटनास्थल से कम से कम 90 मीटर की दूरी पर जितनी जल्दी हो सके एमसीपी की तैनाती के लिए जिम्मेदार हैं. मंगलवार को एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया की ओर से जारी बयान में यह जानकारी दी गई है. इसमें बताया गया है कि इससे आपातकालीन स्थिति में हवाई अड्डे पर सुविधाएं सुनिश्चित करने में मदद मिलेगी.

हिन्दुस्थान समाचार/ओम प्रकाश