एक अफवाह ने फैलाई मेरठ में हिंसा, फूंकी गईं सैकड़ों से ज्यादा झुग्गियां!

नई दिल्ली. यूपी के मेरठ जिले में बुधवार को अतिक्रमण हटाने पहुंची पुलिस की टीम से लोगों ने बदतमीजी करते हुए मारपीट कर दी. आक्रोशित भीड़ ने रोडवेज बसों सहित कई वाहनों में तोड़फोड़ करते हुए पुलिस अधिकारियों को दौड़ा दिया.

यह है मामला
मेरठ कैंट के थाना सदर इलाके की मलिन बस्ती में कैंट बोर्ड की टीम पुलिस के साथ अवैध निर्माण हटवाने गई थी तभी ये बात फैल गई कि बोर्ड और पुलिस की टीम अवैध वसूली के मकसद से पहुंची है.

पुलिसकर्मी का वायरलेस छीन लिया. इसके बाद वहां करीब 100 से ज्यादा झुग्गी झोपड़ी में आग लगा दी गई. घरों में रखे सिलेंडर तेज आवाज से फटने लगे. इससे पूरे इलाके में भगदड़ मच गई. लोग अपने-अपने घरों को छोड़कर भाग गए. घरों में बड़ी संख्या में बकरियां और अन्य पशु बंधे रह गए जो आग में जलकर मर गए.

दरअसल मेरठ सदर थाना क्षेत्र के भूसा मंडी स्थित बाघ वाला में बड़ी संख्या में झुग्गी-झोंपडी सहित पक्के मकान बने हुए हैं. बताया जा रहा है कि रहीसु नाम का व्यक्ति अपने मकान का निर्माण कर रहा था.

दिल्ली और दूर-दराज शहरों से भी लोगों के फोन आने लगे. दुकानों के शटर धड़ाधड़ गिरे और मिनटों में बाजार खाली हो गए. उग्र भीड़ ने पुलिस को पीटा और दिल्ली रोड पर पथराव कर अराजकता फैला दी.

आगजनी हुई जिसमें भूसा मंडी क्षेत्र की करीब 200 झुग्गी झोपड़ियां जलकर राख हो गईं. धमाके के साथ कई सिलिंडर फटने से आग और भयावह हो गई. आग की चपेट में आकर धार्मिक स्थल भी जल गया.

अतिक्रमण हटाने को लेकर एक समुदाय के लोग भड़क गए. उग्र भीड़ ने पुलिस को पीटा और दिल्ली रोड पर पथराव कर अराजकता फैला दी.

आगजनी हुई जिसमें भूसा मंडी क्षेत्र की करीब 200 झुग्गी झोपड़ियां जलकर राख हो गईं. धमाके के साथ कई सिलिंडर फटने से आग और भयावह हो गई. आग की चपेट में आकर धार्मिक स्थल भी जल गया.

सदर बाजार पुलिस मौके पर पहुंची और सात लोगों को हिरासत में ले लिया. डीएम और एसएसपी ने मौके पर पहुंचकर बमुश्किल स्थिति काबू में की.

भूसा मंडी और मछेरान में आगजनी होते ही 200 से ज्यादा बवाली लोग दिल्ली रोड पर उतर गए. महताब सिनेमा से लेकर केसरगंज और रेलवे रोड तक दर्जनों से ज्यादा वाहनों में तोड़फोड़ शुरू कर दी.

दिल्ली रोड पर करीब एक घंटा तक अराजकता का माहौल रहा. बवालियों के सामने जो भी वाहन आया, उसको निशाना बनाया गया.

माहौल को देखते हुए बुधवार रात नौ बजे से गुरुवार सुबह 10 बजे तक डीएम अनिल ढींगरा के आदेश से सभी मोबाइल कंपनियों की इंटरनेट सेवाओं पर रोक लगा दी गई.