हैदराबाद में बनेगा मेडट्रॉनिक का सबसे बड़ा ग्लोबल आरएंडडी सेंटर

August
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

मुंबई, 11 अगस्त (हि.स.). मेडट्रॉनिक पीएलसी कंपनी ने हैदराबाद में वर्तमान आरएंडडी केंद्र को अत्याधुनिक इंजीनियरिंग एंड इनोवेशन सेंटर के रूप में विकसित कर इसका विस्तार करेगी. इसके लिए कंपनी 1200 करोड़ रुपये का निवेश करने का निर्णय लिया है. इसकी जानकारी कंपनी बुधवार को दी.

मेडट्रॉनिक इंजीनियरिंग एंड इनोवेशन सेंटर (एमईआईसी), संयुक्त राज्य अमेरिका के बाहर कंपनी का सबसे बड़ा वैश्विक अनुसंधान व विकास केंद्र होगा. तेलंगाना सरकार और मेडट्रॉनिक पिछले दो वर्षों से इस चर्चा में थे कि निवेश किस तरह से किया जाए. पिछले पांच वर्षों में नियोजित इस निवेश से तेलंगाना की मेडटेक योजनाओं को बढ़ावा मिलेगा और भारत में चि‍कित्‍सा उपकरणों के हब के रूप में हैदराबाद की स्थिति को मजबूत करेगा.

दरअसल वर्ष 2016 में तत्कालीन उद्योग व सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री केटी रामा राव और तेलंगाना के उनके अधिकारियों की टीम जब संयुक्त राज्य अमेरिका की यात्रा पर थे, तब उन्होंने मेडट्रॉनिक के एक्जीक्यूटिव चेयरमैन और बोर्ड के चेयरमेन ओमान इशराक के साथ एक मीटिंग की थी.

मेडट्रॉनिक में एक्जीक्यूटिव चेयरमैन और बोर्ड के चेयरमैन उमर इशराक ने घोषणा करते हुए कहा कि भारत में मेडट्रॉनिक का निवेश इस क्षेत्र के लिए हमारी प्रतिबद्धता का एक सुबूत है और हमें देश में इस बड़े निवेश पर तेलंगाना सरकार के साथ सहयोग करने पर गर्व है.

वहीं, केटी रामा राव ने अमेरिका में उमर इशराक के साथ अपनी मुलाकात को याद करते हुए सभी नियुक्त अधिकारियों को बधाई दी. उन्होंने कहा कि मेडट्रॉनिक ने हैदराबाद को अमेरिका के बाहर अपने सबसे बड़े शोध व विकास केंद्र के रूप में चुना है और इसका इरादा अगले कुछ वर्षों में 1000 नौकरियों का सृजन करना है.

भारतीय उपमहाद्वीप और मिनिमली इनवेसिव थैरेपीज ग्रुप एपीएसी के वाइस प्रेसिडेंट मदन कृष्णन ने कहा कि मेडट्रॉनिक में आविष्कार और नवाचार महत्वपूर्ण हैं ताकि हम पुरानी बीमारियों वाले लोगों के लिए थेरैपी परिणामों को बेहतर बनाने में मदद कर सकें.

हिन्दुस्थान समाचार/विनय