लखनऊ गेस्ट हाउस कांड-मायावती ने मुलायम सिंह के खिलाफ केस लिया वापस, शिवपाल ने कही ये बात

  • बसपा नेतृत्व ने फ़रवरी में ही सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में शपथ पत्र दाखिल कर केस वापस ले लिया था
  • विधानसभा उपचुनाव में सपा और बसपा (SP-BSP) ने अलग-अलग चुनाव लड़े

नई दिल्ली. साल 1995 के चर्चिच लखनऊ गेस्ट हाउस कांड (Lucknow Guest House Scandal) मामले में बसपा सुप्रीमो मायावती ने मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) के खिलाफ केस वापस ले लिया है.

हालांकि समाजवादी पार्टी की ओर से इस की पुष्टि नहीं की गई है, लेकिन बसपा की ओर से स्पष्ट कहा गया है मुलायम सिंह यादव के नाम को इस केस में से वापस ले लिया गया है. बता दें कि गेस्ट हाउस कांड के बाद से ही सपा और बसपा एक दूसरे के धुर विरोधी हो गए थे.

मायावती (Mayawati) के इस कदम को उत्तर प्रदेश में पिछले महीने 11 विधानसभा सीटों पर हुये उपचुनाव में बसपा (BJP) की खराब हालत के बाद उनके फिर से सपा के नजदीक जाने के रूप में देख जा रहा है.

बसपा सुप्रीमो मायावती द्वारा गेस्ट हाउस मामले में केस वापसी पर प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के अध्यक्ष शिवपाल यादव (Shivpal Yadav) ने कहा कि यह मामला 9 महीने पहले ही कोर्ट से खत्म हो चुका था. उन्होंने गेस्ट हाउस कांड को ही झूठा बता दिया.

गौरतलब है कि बसपा नेतृत्व ने फ़रवरी में ही सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में शपथ पत्र दाखिल कर केस वापस ले लिया था. इस मामले में सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव, शिवपाल यादव, आजम खान समेत कई सपा नेता को आरोपी बनाया गया था.

सपा-बसपा गठबंधन के बाद लोकसभा चुनाव की साझा चुनावी रैलियों के बीच सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने बसपा नेतृत्व से गेस्ट हाउस कांड में नामजद मुलायम सिंह के खिलाफ दर्ज कराया गया मुकदमा वापस लेने का आग्रह किया था. लेकिन अब तक ये साफ नहीं हो सका है कि इस कांड के सभी आरोपियों के नाम मुकदमे से वापस होंगे या फिर सिर्फ मुलायम सिंह यादव के.

विधानसभा उपचुनाव में सपा और बसपा (SP-BSP) ने अलग-अलग चुनाव लड़े. सपा को तीन सीटें मिलीं लेकिन बसपा खाता भी नहीं खोल सकी थी.

बसपा के महासचिव सतीश चन्द्र मिश्र ने कहा कि लोकसभा चुनाव के वक्त जब दोनों दलों में समझौता हुआ था तब सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गेस्ट हाउस केस से मुलायम सिंह यादव का नाम वापस लेने की अपील की थी.

1995 की 2 जून को हुआ था स्टेट गेस्ट हाउस कांड
उत्तर प्रदेश की राजनीति में दो जून 1995 का दिन स्टेट गेस्ट हाउस कांड के रूप में याद किया जाता है. मायावती पर हमले के विरोध में मुलायम सिंह यादव, शिवपाल सिंह यादव, सपा के वरिष्ठ नेता धनीराम वर्मा, मोहम्मद आजम खां, बेनी प्रसाद वर्मा समेत कई नेताओं के खिलाफ हजरतगंज कोतवाली में तीन मुकदमे दर्ज किए गए थे.

Trending Tags- Akhilesh Yadav | BSP | SP | Supreme Court | Mulayam Singh Yadav | Shivpal Singh Yadav

Leave a Comment

%d bloggers like this: