बिल भेजने पर कांग्रेस पर भड़की बीएसपी सुप्रीमो मायावती कहा-ये कंगाली का प्रदर्शन

नई दिल्ली. यूपी में अभी तक बस विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. बीजेपी और कांग्रेस के बीच में लगातार बयानवाजी का दौर नहीं थम रहा था इसी बीच इस बयानवाजी में बसपा की भी एंट्री हो गई है.

लॉकडाउन के बीच गैर प्रदेशों से पलायन कर उत्तर प्रदेश वापस लौट रहे प्रवासी श्रमिकों के लिए बस मुहैया कराने को लेकर उत्तर प्रदेश में राजनीति और ज्यादा गरम हो गई है. ये विवाद तब शुरू हुआ है जब राजस्थान की कांग्रेस सरकार ने उत्तर प्रदेश सरकार को 36.36 लाख रुपये का बिल भेजा है. ये  बिल कोटा से यूपी लाए गए बच्चों के लिए 70 बसें उपलब्ध करवाने को लेकर भेजा गया है.

राजस्थान सरकार के इस कदम के बाद बीजेपी और कांग्रेस हमलावर हो गई है. बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी इसे लेकर कांग्रेस को खूब खरी-खोटी सुनाई है.

मायावती ने ट्वीट करते हुए कहा- राजस्थान की कांग्रेस सरकार द्वारा कोटा से करीब 12000 युवक-युवतियों को वापस उनके घर भेजने पर हुए खर्च के रूप में यूपी सरकार से 36.36 लाख रुपये और देने की जो मांग की गई है, वो उसकी कंगाली और अमानवीयता को दिखाता है. दो पड़ोसी राज्यों के बीच ऐसी घिनौनी राजनीति अति-दुखद है.

इसके अलावा मायावती ने आगे लिखा कि ‘कांग्रेस की राजस्थान सरकार एक तरफ कोटा से यूपी के छात्रों को अपनी कुछ बसों से वापस भेजने के लिए मनमाना किराया वसूल रही है तो दूसरी तरफ अब प्रवासी मजदूरों को यूपी में उनके घर भेजने के लिए बसों की बात करके जो राजनीतिक खेल खेल कर रही है.

मायावती ने इसी के साथ पश्चिम बंगाल में अम्फान तूफान की वजह से हुई तबाही पर दुख व्यक्त किया. बसपा प्रमुख ने लिखा कि अम्फान तूफान के तांडव से खासकर पश्चिम बंगाल में जो व्यापक तबाही और बर्बादी हुई है वो काफी दुखद है .

Leave a Reply

%d bloggers like this: