Mass Murder

कारागार में बंदी रघुवीर सिंह की हालत गंभीर होने पर डॉक्टरों के पैनल ने किया रेफर 

हाईकोर्ट से उम्रकैद की सजा मिलने के बाद विधायक समेत आठ बंदी जेल में है बंद

हमीरपुर

जनपद में सामूहिक हत्याकांड में जेल में बंद सजायाफ्ता बंदी रघुवीर सिंह की हालत खराब होने पर जेल प्रशासन उसका इलाज कानपुर में करवा रहा है. इसे यहां के डाक्टरों ने रेफर किया है.

26 जनवरी 1997 की देर शाम करीब साढ़े सात बजे भाजपा नेता राजीव शुक्ला के बड़े भाई राजेश शुक्ला, राकेश शुक्ला, मासूम भतीजा गुड्डा, वेदप्रकाश नायक श्रीकांत पाण्डेय की ताबड़तोड़ फायरिंग कर हत्या कर दी गई थी.

इस हमले में राजीव शुक्ला व अन्य लोग भी घायल हुये थे. इस घटना की रिपोर्ट राजीव शुक्ला की ओर से अशोक सिंह चंदेल, श्याम सिंह निवासी सुमेरपुर हमीरपुर, साहब सिंह, झंडू सिंह अरख निवासी पचखुरा खुर्द सुमेरपुर हमीरपुर, अशोक सिंह चंदेल का ड्राइवर रुक्कू निवासी खालेपुरा हमीरपुर, अशोक सिंह चंदेल का गनर, शराब ठेकेदार रघुवीर सिंह निवासी हाथी दरवाजा हमीरपुर उसका पुत्र डब्बू सिंह, प्रदीप सिंह पुत्र शिवनाथ सिंह, उत्तम सिंह, भान सिंह एडवोकेट व नसीम के अलावा अन्य लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया था.

 
पुलिस ने यह मामला धारा-147, 148, 149, 307, 302, 34, 395 आईपीसी के तहत मुकदमा दर्ज किया था. सामूहिक हत्याकांड के मामले में 19 अप्रैल 2019 को हाईकोर्ट इलाहाबाद की डबल बेंच के रमेश सिन्हा व डीके सिंह ने सुनवाई करने के बाद हमीरपुर सदर विधायक अशोक सिंह चंदेल, रघुवीर सिंह, डब्बू सिंह पुत्र रघुवीर सिंह, उत्तम सिंह, प्रदीप सिंह, भान सिंह एडवोकेट, साहब सिंह, श्याम सिंह व नसीम को उम्र कैद की सजा सुनायी थी. विधायक समेत सभी नौ आरोपितों की गिरफ्तार कर जेल भेजने के आदेश भी हुये थे.

बीती 13 मई को सदर विधायक अशोक सिंह चंदेल, रघुवीर सिंह, डब्बू सिंह, उत्तम सिंह, प्रदीप सिंह, भान सिंह एडवोकेट, साहब सिंह व नसीम जेल की सलाखों में हो गये थे. जेल में बंद सजायाफ्ता रघुवीर सिंह व नसीम का जेल के अस्पताल में शुरू में इलाज होता रहा. 

हमीरपुर कारागार के जेलर पीके त्रिपाठी ने शनिवार को  बताया कि सामूहिक हत्याकांड में आजीवन कारावास की सजा में जेल में निरुद्ध रघुवीर सिंह की तबियत अत्यधिक खराब होने पर उसे यहां के डॉक्टरों के पैनल ने उर्सला कानपुर के लिये रेफर किया. इसके बाद रघुवीर सिंह को उर्सला कानपुर में भेजा गया, जहां सुरक्षाकर्मियों की मौजूदगी में बंदी का इलाज चल रहा है. डॉक्टरों द्वारा इलाज पूरा होने के बाद उसे फिर वापस यहां कारागार लाया जायेगा.

हिन्दुस्थान समाचार/पंकज

3 COMMENTS

Leave a Reply