गुजरात में 55 दिन के बाद खुला बाजार, उद्योग-धंधे शुरू, पटरी पर लौटने लगा जनजीवन

HS
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

अहमदाबाद,19 मई (हि.स.). लॉकडाउन 4.0 के नए नियमों के तहत गुजरात में मंगलवार से कुछ शर्ताें और प्रतिबंधों के साथ उद्योग धंधे, कार्यालय शुरू हो गये.55 दिन बंद पड़ी गतिविधियों के शुरू होने से जनजीवन पटरी पर लौटना शुरू हो गया है.आज तड़के से अहमदाबाद, सूरत, राजकोट, वडोदरा में दुकानें खुलीं.

अधिकांश पान पार्लर, हेयर सैलून की दुकानाें पर भीड़भाड़ दिखी.पूर्व अहमदाबाद व परकोटा क्षेत्र में किसी भी प्रकार की छूट नहीं दी गयी, लेकिन वेस्टर्न अहमदाबाद में दुकानें खुलीं.दुकानों पर लोग शारीरिक दूरी का पालन करते दिखे. अहमदाबाद शहर में एसटी बस सेवा बंद है.

राज्य सरकार ने कोरोना संक्रमण को देखते हुये पूरे राज्य को संक्रमित और गैर संक्रमित दो जोन में बांटकर आर्थिक और रोजमर्रा की गतिविधियों के आधार पर राहत दी गई है. मेहसाणा, विसनगर, पाटन में बाजार धीरे-धीरे खुल गये.बाजार में लोगों की भीड़ देखी गयी.

इसके अलावा वडोदरा, छोटाउदेपुर, पंचमहाल, महिसागर, आनंद और खेड़ा जिलों से जीवन धीरे-धीरे पटरी पर लौट रहा है.कुछ क्षेत्रों में बाजार शुरू हो गए हैं. पंचमहाल में बाजारों में भीड़ देखी गई.कुछ स्थानों पर शारीरिक नियमों का पालन होता नहीं दिखा.वडोदरा में एसटी बस सेवा शुरू नहीं की गई है.

सरकार की अनुमति के बाद राज्य में पान गल्ला को खोलने की अनुमति दी गई है.विभिन्न शहरों में पान गल्ला की दुकानों पर सुबह से ही लोगों की भीड़ लग गई है. राजकोट में सुबह पान मसाला लेने के लिए किलोमीटर लंबी लाइनें लग गईं.

अहमदाबाद में भी लोग शारीरिक दूरी बना कर पान मसाला खरीदने के लिए लाइन में खड़े दिखाई दिए. फरसाण में भी दुकानें खुल गईं.जामनगर और जूनागढ़ में पान मसाला खरीदने के भीड़ दिखी.

राज्य में अब तक कोरोना के 148824 लोगों के परीक्षण किए गए हैं, जिसमें से 11746 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव और 137078 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आयी है.बताया गया है कि पिछले 24 घंटों में राज्य में 366 नए मामले दर्ज किये गये.

इसी दौरान 35 लोगों की मौत हो चुकी है और 305 लोगों को ठीक होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गयी है.राज्य में अब तक 11746 लोगों में 694 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 4804 लोगों को अस्पताल से छुट्टी हो चुकी है.

हिन्दुस्थान समाचार/हर्ष/पारस