MP: कान्हा जन्मोत्सव के लिए सजे बाजार, ग्राहक नदारद

www
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

भोपाल/ग्वालियर, 11 अगस्त (हि.स.). नंद के लाल भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव मंदिरों में 12 अगस्त को रात 12 बजे मनाया जाएगा, जिसकी तैयारियां मंदिरों में शुरू हो गई हैं, लेकिन कोरोना संक्रमण के चलते भक्तों का प्रवेश प्रतिबंध रहेगा. कान्हा के लिए बाजार भी सजकर तैयार हो गए हैं और कई तरह की पोशाकें, मोर पंख, बांसुरी बिक रही हैं, लेकिन बाजारों से ग्राहक नदारद हैं, जिससे दुकानदारों में मायूसी छाई हुई है।

राजधानी भोपाल समेत प्रदेशभर में श्रीकृष्ण जन्मोत्सव बुधवार को धूमधाम से मनाया जाएगा.कोरोना के चलते राज्य शासन द्वारा दिशा-निर्देश दिये गये हैं कि मंदिरों में आयोजित कार्यक्रमों में पांच लोगों से अधिक शामिल नहीं होंगे और सभी अपने-अपने घरों में सामाजिक दूरी का पालन करते हुए यह पर्व मनाएं.इसी को देखते हुए श्रद्धालु कान्हा का जन्मोत्सव मनाने की तैयारियों में जुटे हैं.

राजधानी भोपाल समेत प्रदेशभर में बुधवार सुबह से ही तेज बारिश हो रही है, जिसके चलते लोग अपने घरों से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं.इधर बाजार भी कृष्ण जन्मोत्सव के चलते सजे हुए हैं, लेकिन दुकानों तक ग्राहक नहीं पहुंच पा रहे हैं.

जन्माष्टमी पर हर वर्ष पोशाकों की सबसे ज्यादा बिक्री होती है तो वहीं कान्हा के लिए पालना, बांसुरी, मुकुट की मांग रहती है और इसके लिए व्यापारी पहले से ही खरीदारी कर दुकान सजाकर बैठ रहे हैं, लेकिन कोरोना के चलते शहरभर में होने वाले आयोजनों पर पाबंदी लगी हुई है और स्कूलों में ताले लटके हैं, जिससे प्रतियोगिताएं आयोजित नहीं होंगी. संक्रमण के दौरान लॉकडाउन रहने के कारण भी शहरवासी आर्थिक तंगी से जूझ रहे हैं इसलिए कान्हा का जन्मदिन सादगीपूर्ण तरीके से मनाने की तैयारी कर रहे हैं।

जन्माष्टमी पर्व की पूर्व संध्या पर पर सजा भगवान लक्ष्मीनारायण का फूल बंगला

वहीं, ग्वालियर के जनकगंज स्थित लक्ष्मीनारायण मंदिर पर जन्माष्टमी पर्व की पूर्व संध्या पर लक्ष्मीनारायण भगवान का फूलों से श्रंगार का फूल बंगला सजाया गया.साथ ही भगवान को मोगरे के फूलों से बने विशेष वस्त्रों से श्रंगार किया गया.

मंदिर के पुजारी संजय लभाटे ने बताया कि हर साल की तरह इस साल भी जन्माष्टमी पर्व बडे धूमधाम से मनाया जाएगा, लेकिन कोरोना संक्रमण के चलते श्रद्धालुओं को सोशल डिस्टेंसिंग के साथ सीमित संख्या में प्रवेश दिया जाएगा.श्रद्धालु भगवान के प्राकटोत्सव के दर्शन लक्ष्मीनारायण मंदिर के फेसबुक पेज पर जाकर कर सकेंगे.

हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश