बिहार विधानसभा चुनाव 2020: मुजफ्फरपुर कांड की आरोपी मंजू वर्मा पर नीतीश मेहरबान, दिया टिकट

36
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

नई दिल्ली. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) की पार्टी जनता दल यूनाइटेड ने तीन चरणों में होने वाले बिहार विधासनभा चुनाव (Bihar Vidhansabha Election) के लिए अपने 115 उम्मीदवारों की पूरी लिस्ट जारी कर दी है. जेडीयू  ने जिन 115 उम्मीदवारों के नाम का ऐलान किया है, उनमें से एक नाम मंजू वर्मा का भी है.

पार्टी ने 18 नए कार्यकर्ताओं पर इस बार दाव लगाया है और उन्हें टिकट दी है। तो वहीं 10 मौजूदा विधायकों का पत्ता साफ हो गया है। टिकट कटने वालों में वरिष्ठ मंत्री कपिलदेव कामत भी हैं. दूसरी तरफ आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बेटे तेजप्रताप के ससुर चंद्रिका राय को भी परसा विधानसभा सीट से नीतीश कुमार ने जेडीयू का टिकट दिया है.

मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड (Muzaffarpur Girls House Scandal) में विवादों में रहीं पूर्व मंत्री मंजू वर्मा को भी जेडीयू ने चेरिया विधानसभा क्षेत्र से उम्मीदवार बनाया गया है. फिलहाल वो जमानत पर बाहर हैं.

बता दें कि मंजू वर्मा 2018 में पूरे देश को हिलाकर रख देने वाले मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड की आरोपी हैं और जिन्हें पार्टी ने खुद निकाल दिया था. मुजफ्फरपुर बालिका गृह रेप कांड में करीब 34 बच्चियों के साथ रेप की पुष्टि हुई थी. इस कांड के सामने आने के बाद नीतीश कुमार की काफी किरकिरी हुई जिसके बाद मंजू वर्मा पर इस्तीफे का दबाव बना.

बालिका गृह कांड की जांच के दौरान पुलिस ने मंजू वर्मा (Manju Verma) के घर पर छापेमारी की थी, जहां से अवैध हथियार और कई कारतूस बरामद किए गए थे. इस पूरे मामले में कथित रूप से मंजू वर्मा के पति चंद्रशेखर वर्मा के भी शामिल होने की बात सामने आई थी. इसके बाद मंजू वर्मा और उनके पति को गिरफ्तार किया गया था और दोनों को जेल जाना पड़ा था. हालांकि, बाद में दोनों को जमानत मिल गई थी.

हाल ही में चुनावी हलचल शुरू होते ही मंजू वर्मा ने नीतीश कुमार से पटना में जेडीयू (JDU) कार्यालय में मुलाकात की थी. तभी मंजू वर्मा को टिकट मिलने के संकेत मिल गए थे. तभी ऐसा लग रहा था कि उन दोनों के बीच सकारात्मक बातचीत हुई जिसके बाद अब उनको टिकट मिलना इस बात की पुष्टि करते हैं.