हाई बोल्टेज मुकाबला

राम जी तिवारी

सात चरणों में होने वाला लोकसभा चुनाव जारी है. अब तक की वोटिंग भी उत्साहवर्धक है. तीसरे चरण में 115 सीटों और चौथे चरण में 71 सीटों पर चुनाव हैं. इनमें से कुछ सीटें चर्चा के केंद्र में है. 

जहां प्रतिदिन आरोप-प्रत्यारोप के चक्रवात आते रहते हैं. इसी क्रम में तीसरे चरण में बिहार की मधेपुरा और उत्तर प्रदेश की रामपुर, मैनपुरी, एवं पीलीभीत की सीट और चौथे चरण में बिहार की बेगूसराय और उत्तर प्रदेश की कन्नौज और कानपुर लोकसभा संसदीय क्षेत्र पर उथल-पुथल का दौर देखने को मिल रहा है.

बिहार में महागठबंधन है. उसके हिसाब से सीटों का बंटवारा हुआ है. राज्य की हॉट सीट बनी मधेपुरा और बेगूसराय दोनों आरजेडी के पास है. सबसे पहले बात करते हैं तीसरे फेज की सीट मधेपुरा के बारे में. मधेपुरा से आरजेडी की तरफ से दिग्गज उम्मीदवार शरद यादव हैं. 

उनके सामने एनडीए उम्मीदवार दिनेश चंद्र यादव (जदयू) हैं. जबकि बाहुबली राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव दोनों को टक्कर देने के लिए तैयार हैं. 

सबसे दिलचस्प तथ्य यह है कि यादव बहुल इस सीट के तीनों ही उम्मीदवार यादव समुदाय से ही हैं. इसलिए टक्कर दिलचस्प हो गई है. आठवीं बार संसद पहुंचने की हसरत लिए शरद यादव की दशा कहीं 2014 की तरह न हो जाए. 

यह डर महागठबंधन को भी है. यहां से 2014 में पप्पू यादव जो कि राजद से थे जदयू के टिकट पर खड़े शरद यादव को हराने में कामयाब रहे थे. जबकि साल 2009 में शरद यादव (जदयू) और 2004 में लालू प्रसाद यादव (राजद) इस सीट से संसद पहुंचने में सफल रहे थे.

इसके साथ ही उत्तर प्रदेश के तीसरे चरण में रामपुर, मैनपुरी और पीलीभीत की सीट हाई बोल्टेज वाली सीटों में शुमार है. सबसे पहले रामपुर संसदीय क्षेत्र की बात, जहां पिछले दिनों सपा नेता आजम खान के विवादास्पद बयानों को लेकर देशभर में चर्चा है. 

उन्होंने अभी हाल ही में भाजपा में शामिल जया प्रदा पर बेहद शर्मनाक बयान दिया था. बयान के इतर रामपुर सीट की लड़ाई रोचक दौर में है. 

पूरा लेख पढ़ें युगवार्ता के 28 अप्रैल के अंक में…

%d bloggers like this: