महाराष्ट्रः जब संघ गीत सुनकर भावुक हुए नितिन गडकरी

RSS Nitin Gadkari
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

नागपुर, महाराष्ट्र।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) की शाखाओं में गीत का एक अलग महत्त्व होता है. आम तौर पर देश भक्ति से जुड़े इन गीतों में सकारात्मक सन्देश छिपा होता है. नागपुर में गायक योगेन्द्र रानडे ने अपनी बेटी के साथ मिल कर एक गीत गाया, जिसे सुनकर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी भावुक हो गए.

योगेन्द्र रानडे ने अपनी बेटी के साथ ‘निर्माणों के पावन युग में हम चरित्र निर्माण न भूलें’ संघ गीत गाया, यह गीत केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी को काफी पसंद आया. और इसे सुनकर वे भावुक हो गए.

लॉकडाउन के समय में नितिन गडकरी हर रोज विभिन्न विभागों की ऑनलाइन बैठकों में व्यस्त रहते हैं. जैसे ही इस गीत के बारे में पता चला तो गडकरी ने तुरंत वीडियो जारी करके अपनी भावनाएं व्यक्त की.

अपने वीडियो संदेश में गडकरी ने कहा कि संघ की स्थापना का उद्देश्य ही राष्ट्र के लिए समर्पित व्यक्तियों का निर्माण करना है. स्वयंसेवकों के साथ समाज को भी प्रेरित करने के लिए संघ के प्रत्येक कार्यक्रम में प्रेरणादाई गीत गाने का प्रचलन वर्षों से चला आ रहा है.

उन्होंने कहा कि जब-जब देश पर संकट आए, तब-तब स्वयंसेवक बिना विलंब सेवा कार्य में अग्रसर रहे हैं. आज भी जब सारा विश्व कोरोना महामारी से उत्पन्न असाधारण परिस्थिति से ग्रस्त है, तब स्वयंसेवक तथा उनके परिवारजन तन-मन-धन से सेवा कार्यों में लगे हैं. गडकरी ने संघ गीतों को लेकर अपने संस्मरण भी बताए.

इस गीत में छिपा है जीवन का सच

इस गीत को गाने वाले नागपुर के रानडे दंपत्ति ने बताया कि ‘निर्माणों के पावन युग में हम चरित्र निर्माण न भूलें’ इस गीत का चयन काफी सोच समझ कर किया है. आज का युग परिवर्तनशील युग है. इसके कई प्रकार के परिवर्तन आ रहे है.

कोरोना महामारी का संकट हो या फिर चाईना से चल रहा मौजुदा विवाद हो समाज इन मुश्किलो का सामना तभी कर सकता है जब देश के युवाओं का चरित्र बेहतर हो. साथ ही हमें कठिनाइयों से ना घबराकर रास्ते में ही नहीं खो जाना है और साहस पूर्वक चुनौतियों को स्वीकार करना है.

हम केवल अपने दुखों और समस्याओं के निराकण में न उलझे रहें बल्कि नई खोज को भी जारी रखें. रानडे ने बताया कि नैतिक मूल्य अर्थात हमारा उज्ज्वल चरित्र, विनम्रता और हमारा आदर्श व्यवहार और सदाचरण, यह सब एक गुण है, इन गुणों को अपने जीवन में बनाए रखना है.

रानडे ने कहा कि यही संदेश देने के लिए उनके परिवार ने मिल कर यह गीत गाया है. फिलहाल यह गीत सोशल मिडीया पर काफी सराहा जा रहा है.

हिन्दुस्थान समाचार/मनीष