महाराष्ट्र की राजनीति बढ़ रही राष्ट्रपति शासन की ओर

  • बीजेपी, शिवसेना के बाद अब एनसीपी के पास राज्य में सरकार बनाने का मौका है
  • महाराष्ट्र में बीते 48 घंटों में जो घटनाक्रम सामने आया है वो बेहद रोचक रहा है

महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर गतिरोध अबतक थमा नहीं है. राज्य में कोई पार्टी अबतक बहुमत साबित नहीं कर पाई है. राज्य में चल रहा राजनीतिक घटनाक्रम अब किसी थ्रिलर फिल्म से कम नहीं रह गया है.

बीजेपी, शिवसेना के बाद अब एनसीपी के पास राज्य में सरकार बनाने का मौका है. एनसीपी को आज शाम 8.30 बजे तक राज्यपाल को सरकार बनाने के बारे में बताना होगा.

वहीं महाराष्ट्र में बीते 48 घंटों में जो घटनाक्रम सामने आया है वो बेहद रोचक रहा है. बीते दो दिनों में महाराष्ट्र की राजनीति की दिशा और दशा दोनों ही बदल गई है.

राज्य में नई सरकार के गठन को लेकर सोमवार को दिन भर अफवाहों का दौर जारी रहा. वहीं राज्य में किसी एक पार्टी के पास समर्थन हासिल होता नहीं दिख रहा है. ऐसे में अनुमान लगाया जा रहा है कि राज्य की राजनीतिक स्थिति राष्ट्रपति शासन की ओर बढ़ रही है.

दरअसल राज्यपाल ने पहले बड़े दल के तौर पर बीजेपी को सरकार बनाने का न्योता दिया था. मगर बीजेपी ने सरकार बनाने से इंकार कर दिया है. इसके बाद शिवसेना भी तय समय के भीतर अपना समर्थन राज्यपाल के सामने पेश नहीं कर पाई.

अब एनसीपी के साथ ही ऐसे ही हालात बन रहे हैं. अगर एनसीपी भी 24 घंटों में अपना समर्थन हासिल नहीं कर सकी तो ऐसे में कयास लगाए जा रहे हैं कि केंदर् सरकार को राष्ट्रपति शासन लगाने के लिए सिफारिश भेजी जा सकती है.

Trending Tags- Shiv Sena | NCP | BJP | Congress | Assembly Election | Maharashtra | Aaj ka Samachar

Leave a Reply