महंत नृत्य गोपालदास कोरोना पॉजिटिव निकले, राम मंदिर भूमि पूजन में पीएम मोदी के साथ साझा किया था मंच

Mahant Nritya Gopal Das
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

देश में कोरोना में लगातार बढ़ोत्तरी हो रही है. हर रोज हजारों नए मरीज सामने आ रहे हैं. अब जिसके कोरोना संक्रमित होने की जानकारी मिली है, उससे चिंताएं बढ़ गई हैं, क्योंकि वो कुछ दिनों पहले ही पीएम मोदी से मिले थे. हम बात कर रहे हैं राम जन्मभूमि ट्रस्ट के प्रमुख महंत नृत्य गोपालदास की.

महंत नृत्य गोपाल दास की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. जिसके बाद लखनऊ से लेकर दिल्ली तक में खलबली मच गई है. क्योंकि 5 अगस्त को राम मंदिर के भूमि पूजन में पीएम मोदी अयोध्या गए थे. उस कार्यक्रम में महंत नृत्य गोपालदास भी मौजूद थे.

उन्होंने पीएम मोदी और सीएम योगी के साथ मंच भी साझा किया था. पीएम मोदी के अलावा मंच पर सिर्फ 3 मेहमान मौजूद थे. जिनमें उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, सीएम योगी और आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत शामिल हैं.

अब महंत नृत्य गोपालदास के कोरोना संक्रमित होने से तीनों नेताओं की सुरक्षा में लगे अधिकारियों में खलबली मच गई है. कोरोना के डर के कारण ही कार्यक्रम में सिर्फ 200 लोगों को ही आमंत्रित किया गया था.

82 साल के नृत्य गोपाल दास बुधवार को जन्माष्टमी मनाने मथुरा पहुंचे थे. गुरुवार सुबह उनकी तबीयत अचानक बिगड़ गई. सीएमओ ने स्वास्थ्य टीम के साथ मौके पर पहुंचकर जांच की, जिसमें उनका टेस्ट पॉजिटिव पाया गया.

महंत नृत्यगोपाल श्रीकृष्ण जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष भी हैं. कृष्ण जन्माष्टमी पर हर बार वे इस कार्यक्रम में शामिल होते हैं, लेकिन इस बार वे अयोध्या से पवित्र सरयू जल भी बाल गोपाल के अभिषेक के लिए लेकर गए थे.

वे जन्मस्थान में ठाकुरजी के अभिषेक के समय भी बैठे रहे थे. उनके शिष्य ने ही अभिषेक की परंपरा का निभाई थी. वहीं महंत नृत्य गोपालदास के कोरोना संक्रमित पाए जाने की सूचना मिलने के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उनके स्वास्थ्य की जानकारी ली.

सीएम योगी ने मथुरा के जिलाधिकारी से इस बारे में बात की और इलाज में कोई कमी नहीं होने के आदेश दिए हैं.

कोरोना मामलों की बात करें तो भारत समेत दुनियाभर के 180 से ज्यादा देशों में कोरोना का खौफ देखने को मिल रहा है. अभी तक ढाई करोड़ से ज्यादा लोग इस संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं. यह वायरस साढे 7 लाख मरीजों की जिंदगी छीन चुका है.