मद्रास हाईकोर्ट ने TIKTOK ऐप से हटाया बैन, दी ये चेतावनी
  • पीठ ने ऐप से अंतरिम प्रतिबंध इस शर्त पर हटा लिया कि ऐप पर अश्लील वीडियो अपलोड नहीं किया जाएगा
  • इस बात को लेकर चिंता जतायी गयी थी कि ऐसे ऐप के जरिए “अश्लील सामग्री” उपलब्ध करायी जा रही है

नई दिल्ली. मद्रास हाईकोर्ट की मदुरै पीठ ने बुधवार को चीनी कंपनी बाइटडांस की स्वामित्व वाला मोबाइल एप्लीकेशन टिकटॉक से कुछ शर्तो के साथ प्रतिबंध हटा लिया.

पीठ ने ऐप से अंतरिम प्रतिबंध इस शर्त पर हटा लिया कि ऐप पर अश्लील वीडियो अपलोड नहीं किया जाएगा. अदालत ने कहा कि ऐसा किए जाने पर अदालत की अवमानना की कार्यवाही शुरू की जाएगी. इस मंच का उपयोग अश्लील वीडियो के लिए नहीं होना चाहिए.

उच्च न्यायालय की मदुरै पीठ ने चेतावनी दी कि अगर इस ऐप के जरिए पोस्ट किए गए किसी विवादास्पद वीडियो से शर्तों का उल्लंघन होता है तो इसे अदालत की अवमानना माना जाएगा.
हाई कोर्ट ने तीन अप्रैल को केंद्र को मोबाइल ऐप टिकटॉक पर प्रतिबंध लगाने का निर्देश दिया था.

इस ऐप का उपयोग छोटे वीडियो बनाने के लिए किया जाता है. इस बात को लेकर चिंता जतायी गयी थी कि ऐसे ऐप के जरिए “अश्लील सामग्री” उपलब्ध करायी जा रही है.

टिकटॉक ने जताई खुशीवहीं दूसरी ओर मद्रास उच्च न्यायालय द्वारा प्रतिबंध हटाये जाने के बाद चीन के वीडियो साझा करने वाले एप टिकटॉक ने कहा है ”हम इस फैसले से खुश हैं. हमारा मानना है कि हमारे भारतीय उपयोगकर्ता ने भी इसका जोरदार स्वागत किया है, जो टिकटॉक का इस्तेमाल अपनी रचनात्मकता दिखाने के लिए करते हैं.” उसने कहा कि एप के दुरुपयोग के खिलाफ कंपनी के प्रयासों को मान्यता मिली है.

गूगल-एप्पल ने हटा लिया था प्लेटफार्म सेवहीं कुछ दिन पहले इस ऐप को गूगल और एप्पल ने भी अपने एप प्लेटफॉर्म से इस ऐप को हटा दिया था. जिसके बाद नए यूजर्स इस ऐप को डाउनलोड नहीं कर सकते थे. टिकटॉक एप की मदद से यूजर्स छोटे वीडियो बना और शेयर कर सकते हैं. दुनियाभर में इस एप के करोड़ों यूजर्स हैं.

टिकटॉक सोशल वीडियो एप– टिकटॉक एक सोशल वीडियो ऐप है जिसे पेइचिंग की ByteDance Co. ने लॉन्च किया था. फरवरी 2019 तक इस ऐप के डाउनलोड की संख्या 100 करोड़ के आंकड़े पार गई. इतना ही नहीं इसे साल 2018 में नॉन-गेम कैटिगरी में चौथा सबसे ज्यादा बार डाउनलोड होने वाला ऐप बन गया था.

इंडोनेशिया और बांग्लादेश में है बैन- टिकटॉक एक चाइनीज ऐप है और भारत में इसके 10.4 करोड़ एक्टिव यूजर्स हैं. बैन की जहां तक बात है तो इसे इंडोनेशिया और बांग्लादेश में पहले ही बैन किया जा चुका है.

एप के हैं 3 करोड़ यूजर्स भारत में
टिक टॉक में वीडियो बनाने के लिए स्पेशल इफेक्ट्स की सुविधा दी गई है. ऐनालिटिक्स फर्म सेंसर टावर के मुताबिक, भारत में करीब 3 करोड़ यूजर्स ने टिक टॉक ऐप डाउनलोड किया है जबकि दुनियाभर में इसके 1 अरब यूजर्स हैं.

एप के हैं 3 करोड़ यूजर्स भारत में
टिक टॉक में वीडियो बनाने के लिए स्पेशल इफेक्ट्स की सुविधा दी गई है. ऐनालिटिक्स फर्म सेंसर टावर के मुताबिक, भारत में करीब 3 करोड़ यूजर्स ने टिक टॉक ऐप डाउनलोड किया है जबकि दुनियाभर में इसके 1 अरब यूजर्स हैं.

एप के हैं 3 करोड़ यूजर्स भारत में
टिक टॉक में वीडियो बनाने के लिए स्पेशल इफेक्ट्स की सुविधा दी गई है. ऐनालिटिक्स फर्म सेंसर टावर के मुताबिक, भारत में करीब 3 करोड़ यूजर्स ने टिक टॉक ऐप डाउनलोड किया है जबकि दुनियाभर में इसके 1 अरब यूजर्स हैं.

Trending Tags- Tik Tok App News, Madaras High Court, Superm Court, Tik Tok Banned in India, Tik Tok Video, Tik Tok Ban, Tik Tok Musically App, Tik Tok Apk, Tik Tok Ban News in Hindi.

%d bloggers like this: