मध्यप्रदेश तीन दिन से शीतलहर की चपेट में, खेतों में फसलों पर जमी बर्फ

देश के पहाड़ी क्षेत्रों में हो रही बर्फबारी का असर मध्यप्रदेश में भी देखने को मिल रहा है. बीते तीन दिनों से पूरा प्रदेश शीतलहर की चपेट में है और कड़ाके की ठंड ने जन-जीवन को अस्त-व्यस्त कर दिया है. हालांकि, दिन में तेज धूप निकल रही है, लेकिन ठंडी हवाओं से धूप भी बेअसर साबित हो रही है और दिन में भी लोग कांपते नजर आ रहे हैं. शनिवार को सुबह प्रदेश के कई जिलों में ग्रामीण अंचलों में किसान जब अपने खेतों में पहुंचे तो फसलों पर बर्फ की परत जमी दिखाई दी. मौसम विभाग ने आगामी तीन दिनों तक तापमान में गिरावट की संभावना जताई है.

मध्यप्रदेश के अधिकांश शहरों में शनिवार को सुबह घना कोहरा छाया रहा. भोपाल में बीती रात न्यूनतम तापमान 4.6 डिग्री तक पहुंच गया, जबकि पचमढ़ी और खजुराहो में न्यूनतम तापमान दो डिग्री के आसपास दर्ज किया गया. सबसे कम तापमान बैतूल में 1.7 डिग्री रिकार्ड किया गया. सीहोर, छिंदवाड़ा, बैतूल और उमरिया जिलों के गांवों में सुबह खेतों में ओस की बूंदे बर्फ में तब्दील हो गई. जब किसान खेतों में पहुंचे तो फसलों पर बर्फ की चादर बिछी नजर आई. शीतलहर के चलते मौसम में ठिठुरन और गलन बढ़ गई है. रात में तो कड़ाके की ठंड पड़ ही रही है, सुबह और शाम को भी लोग सर्दी से कांपने को मजबूर हैं. वहीं, शीतलहर से फसलों पर पाला पडऩे का संकट मंडराने लगा है.

मौसम विभाग के मुताबिक, शुक्रवार रात प्रदेश में सबसे कम न्यूमतम तापमान बैतूल 1.7, पचमढ़ी 1.8, उमरिया 2.2, ग्वालियर 3.0, रायसेन 3.2, सीहोर 3.2, नौगांव 3.3, दतिया 3.4, रीवा 3.5, शिवपुरी 3.5, छिंदवाड़ा 3.6, शाजापुर 4.0, सीधी 4.0, टीकमगढ़ 4.0, दमोह 4.4, सतना 4.4 खजुराहो 4.5, भोपाल 4.6, राजगढ़ 4.6, खरगौन 4.6, जबलपुर 4.8, सागर 5.4, सिवनी 5.2, धार 5.2, गुना 5.0, रतलाम 5.6, श्योपुर 5.0, उज्जैन 5.6 डिग्री दर्ज किया गया है.

भोपाल मौसम केन्द्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक आरआर त्रिपाठी ने बताया कि हवाओं का रुख उत्तरी होने से लगातार तापमान में गिरावट आ रही है. आगामी तीन दिन तक तापमान में गिरावट का दौर जारी रहने की संभावना है. उन्होंने बताया कि तीन दिन बाद प्रदेश के मौसम में परिवर्तन होगा और मकर संक्रांति पर्व के दौरान आगामी 15 जनवरी को कुछ हिस्सों में आसमान में बादल छाने के साथ-साथ कहीं-कहीं बारिश के भी आसार रहेंगे.

हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश तोमर

Leave a Reply

%d bloggers like this: