बिहारः नीतीश की राह का रोड़ा बनेंगे चिराग, मोदी का देते रहेंगे साथ

Chirag Paswan
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

बिहार में जिस दिन से चुनाव का ऐलान हुआ है. सीट बंटवारे को लेकर राजनीति हर दिन नए करवट ले रही है. सीटों को लेकर गठबंधनों में टूट का दौर जारी है. बीजेपी की लाख कोशिशों के बाद भी एलजेपी सुप्रीमो चिराग पासवान ने अकेले चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया है.

चिराग पिछले कुछ समय से नीतीश कुमार पर हमलावर थे. वे लगातार नीतीश सरकार पर हमला कर रहे थे. और अकेले चुनाव लड़ने की बात कह रहे थे. हालांकि बीजेपी ने उन्हें काफी मनाने की कोशिश की. चिराग ने आज (रविवार को) संसदीय बोर्ड की बैठक की. बैठक में बोर्ड के सभी सदस्य मौजूद रहे.

बैठक में फैसला लिया गया कि एलजेपी एनडीए का हिस्सा बनी रहेगी. लेकिन बिहार में वो नीतीश कुमार के खिलाफ चुनाव लड़ेगी. बैठक में तय किया गया कि पार्टी केंद्र में एनडीए का ही हिस्सा रहेगी. लेकिन राज्य में नीतीश कुमार का नेतृत्व स्वीकार नहीं करेगी.

एलजेपी ने साफ शब्दों में कहा कि उसका गठबंधन बीजेपी के साथ है. वो राज्य में जेडीयू और हम पार्टी के गठबंधन को नहीं मानता है. इस लिहाज से साफ है कि एलजेपी ने मूड बना लिया है कि वह हम और जेडीयू के खिलाफ अपने प्रत्याशी उतारेगी.

जानकारी के मुताबिक एलजेपी ने बीजेपी सरकार का प्रस्ताव पारित किया गया है. यानी कि यदि चुनाव के बाद बीजेपी की ज्यादा सीटें आती हैं. और वो अपना मुख्यमंत्री घोषित करता है. एलजेपी के सभी विधायक बीजेपी को समर्थन देंगे. एलजेपी के सभी विधायक पीएम मोदी और बीजेपी को मजबूत करेंगे.

चिराग पासवान ने एक बयान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ की है और कहा है कि उनकी पार्टी के सभी उम्मीदवार प्रधानमंत्री के हाथ मजबूत करेंगे. चिराग ने कहा कि उन्हें बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली पार्टी जद(यू) से शिकायत है. मतलब साफ है कि चिराग नीतीश कुमार के खिलाफ ही चुनाव लड़ेंगे.