14 दिसम्बर से यहां शुरू होगा लौंगेवाला विजय दिवस समारोह

जैसलमेर, 01 दिसम्बर (हि.स.). भारत पाक- युद्ध (1971) में लोंगेवाला लडाई क्षेत्र के युद्ध में भारतीय सेना की ऐतिहासिक विजय की याद में बैटल एक्स डिविजन के तत्वावधान में लौंगेवाला ब्रिगेड 14 से 16 दिसम्बर तक ” लोंगेवाला विजय दिवस का आयोजन करेगी.

4 दिसम्बर 1971, को पाकिस्तान ने इन्फैन्ट्री ब्रिगेड के साथ टी- 59 टैंकों की एक रेजिमेंन्ट एवं एम- 4 शेरेमान टैंको की एक टुकडी द्वारा राजस्थान सेक्टर में एक बड़े हमले की शुरुआत की. दुश्मन का इरादा लौंगेवाला पर कब्जा कर के रामगढ़ व जैसलमेर की तरफ बढ़ने का था.

मेजर कुलदीप सिंह चांदपुरी की कमान में भारतीय सेना की 23 पंजाब रेजीमेंट की ‘ अल्फा ‘ कम्पनी लौंगेवाला में तैनात थी. दुश्मन ने अपनी योजना के अनुसार लोंगेवाला पोस्ट पर रात 4 व 5 दिसम्बर 1971 को हमला किया. दुश्मन से संख्या में कई गुना कम होते हुए भी 23 पंजाब की ‘अल्फा’ कम्पनी के बहादुर जवान पोस्ट पर तैनात रहे तथा दुश्मन की पैदल सेना व टैंको का डटकर सामना किया.

05 दिसम्बर 1971 की सुबह वायुसेना के हन्टर लडाकू विमानों के द्वारा जो कि वायुसेना स्टेशन जैसलमेर में मौजुद थे, विंग कमाण्डर एल . एस . बावा की अगुवाई में बहुत ही भारी मात्रा में बम गिराकर दुश्मन के टैंको को बरबाद कर किया.

युद्ध के इतिहास में 23 पंजाब रेजीमेंट के बहादुर जवानों द्वारा किये गये इस बहादुरी के काम का कोई और मुकाबला नहीं है तथा यह आने वाली पीढियों को हमेशा प्रेरीत करता रहेगा. इस महान लडाई को भारतीय सिनेमा में लोकप्रिय फिल्म बॉर्डर में फिल्माया गया है. इस जीत के पुण्यस्मरण मे कई मैराथन दौड और साइकिलिंग का आयोजन किया जाएगा.

सेवानिवृत एवं सेवारत सैनिकों तथा नागरिको द्वारा पुष्पांजली समारोह के दौरान लौंगेवाला की लड़ाई के नायकों को श्रद्धांजली दी जाएगी. देश के नागरिकों के लिए इस ऐतिहासिक युद्ध की गाथा को लौंगेवाला में लौंगेवाला युद्धस्थल पर बेहतरीन तरीके से म्यूजियम के रूप में संजो कर रखा गया है ताकि आने वाली पीढ़ियां भारतीय सेना के शौर्य और पराक्रम से रूबरू हो सकें.

हिन्दुस्थान समाचार/ भाटिया

Leave a Reply