दिल्ली का 2020: एक नजर संगम विहार विधानसभा सीट पर, यहां के लोगों को अभी भी विकास का इंतजार

  • दिल्ली विधानसभा की 70 सीटों पर 8 फरवरी को वोट डाले जाएंगे और 11 फरवरी को नतीजे आएंगे
  • साउथ दिल्ली में होने के कारण भी संगम विहार में पूरी तरह विकास नहीं हुआ है

नई दिल्ली. चुनाव तारीखों की घोषणा के साथ जहां मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अपने 5 साल के कामकाज गिनाते हुए 2015 का प्रदर्शन दोहराने का दावा कर रहे हैं तो वहीं बीजेपी 2019 लोकसभा चुनाव नतीजों के सहारे कार्यकर्ताओं में जोश भर रही है. कांग्रेस का लोकसभा चुनाव में बढ़ा वोट प्रतिशत फिर दिल्ली में अपनी जमीन मजबूत करने की कोशिश में हैं.

दिल्ली विधानसभा की 70 सीटों पर 8 फरवरी को वोट डाले जाएंगे और 11 फरवरी को नतीजे आएंगे. संगम विहार विधानसभा सीट दक्षिण दिल्ली क्षेत्र का हिस्सा है.

2008 में संगम विहार विधानसभा सीट बनी

  • साल 2002 में गठित परिसीमन आयोग की सिफारिशों के बाद 2008 में संगम विहार विधानसभा सीट का गठन किया गया था.
  • 2008 में यहां पहली बार विधानसभा चुनाव कराए गए थे.
  • उस समय यहां से बीजेपी के एससीएल गुप्‍ता ने कांग्रेस आमोद कुमार कांत को करारी मात दी थी.
  • संगम विहार विधानसभा सीट दक्षिण दिल्ली क्षेत्र का हिस्सा है.

वर्तमान संगम विहार सीट से आम आदमी पार्टी (AAP) के नेता दिनेश मोहनिया विधायक हैं. उन्होंने 2015 के दिल्ली चुनाव में बीजेपी उम्मीदवार शिव चरण लाल गुप्ता को (72131) वोटों से हराया था.

बीजेपी को यहां (28143) वोट मिले थे, जबकि APP को (72131) वोट प्राप्त हुए थे. वहीं कांग्रेस के उम्मीदवार विशन स्वरुप अग्रवाल को इस चुनाव में (3,423) वोट मिले थे.

जानें संगम विहार विधानसभा सीट के बारे में
दिल्‍ली का ये सीमांत इलाका बड़े पैमाने पर जंगलों से घिरा हुआ है. संगम विहार इलाका बिजवासन, अंबेडकर नगर, छतरपुर और कालकाजी से घिरा हुआ है.

वोटर्स की कुल संख्या
संगम विहार चुनाव क्षेत्र में कुल मतदाताओं की संख्या (164019) है, जिसमें महिला मतदाताओं की संख्या (66547) और पुरुष मतदाता की संख्या (97459) है. वहीं साल 2015 के दिल्ली विधानसभा चुनाव में यहां 66.68 प्रतिशत वोट पड़े थे.

‘आप’ की हुई थी बंपर जीत
साल 2015 के विधानसभा चुनाव में अरविंद केजरीवाल की पार्टी ‘आप’ ने सबको चौंकाते हुए 54.3 फीसदी वोट शेयर हासिल किए थे.

ये चुनाव परिणाम के बाद ही पता चलेगा की देश की राजधानी की सत्ता पर दोबारा आम आदमी पार्टी (AAP) की वापसी होगी या फिर बीजेपी और कांग्रेस बैठेगी. बता दें कि दिल्ली विधानसभा की 70 सीटों पर 8 फरवरी को वोट डाले जाएंगे और 11 फरवरी को नतीजे आएंगे.

इन हालातों के सुधरने की दरकार

साउथ दिल्ली में होने के कारण भी संगम विहार में पूरी तरह विकास नहीं हुआ है. संगम विहार में बहुत सी समस्यायें है जिनसे यहां की जनता परेशान है. सबसे ज्यादा परेशानी अंदर के ट्रांसपोर्ट की है और सड़कों के हालात बहुत ही खराब है.

कई जगह गड़डे खोदे गए हैं जो महीनों बाद नहीं भरे जा चुके हैं और बिना बरसात के भी पानी भरा रहता है. यहीं नहीं यहां के लोगों को पानी की परेशानी का सामना भी करना पड़ता है. सड़कों पर जाम की स्थिति बहुत ही बुरी है.

इलाके में पानी सीवर की लाइन के लिए कुछ काम तो शुरू हुआ है लेकिन थोड़ा रुक कर . तो सबसे पहले यहां के लोग चाहते हैं कि कोई भी पार्टी जीते पर वो यहां के लिए विकास करे राजनीति नहीं.

Also Read: Delhi Election 2020 | Delhi Election Date | Delhi election news in hindi today

Leave a Reply

%d bloggers like this: