JNU ने जिस इतिहासकार रोमिला थापर का मांगा सीवी, जानिए कौन हैं रोमिला…

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) एक बार फिर से चर्चा में है. इस बार हिस्टोरियन रोमिला थापर से यूनिवर्सिटी प्रोफेसर की सेवाएं जारी करने के लिए सीवी मांगा है. इसे लेकर काफी हंगामा हो रहा है.

आइए आपको बताते हैं कि कौन हैं रोमिला थापर

रोमिला थापर देश की प्रमुख इतिहासकारों व लेखकों में से एक हैं. 30 नवंबर 1931 को लखनऊ में उनका जन्म हुआ था. उन्होंने पंजाब यूनिवर्सिटी से इंग्लिश में ग्रेजुएशन की डिग्री ली थी.

इसके बाद उन्होंने लंदन यूनिवर्सिटी से प्राचीन भारत इतिहास में स्नातक किया. इसके बाद उन्होंने लंदन यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ ओरिएंटल एंड अफ्रीकन स्टडीज  डॉक्टरेट की डिग्री हासिल की.

अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद थापर खुद भी पढ़ाने की फील्ड में उतरीं. उन्होंने कुरुक्षेत्र युनिवर्सिटी से टीचिंग की शुरूआत की. इसके बाद वो कुछ वर्षों तक डीयू में भी अपनी सेवाएं देती रहीं.

1970 में उन्होंने जेएनयू में पढ़ाने की शुरूआत की. वो 1992 तक प्राचीन भारतीय इतिहास की प्रोफेसर रहीं. इसके बाद 1993 से उन्होंने जेएनयू में एमेरिटस प्रोफेसर के पद पर सेवाएं देना शुरू किया.

सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि रोमिला कॉर्नेल यूनिवर्सिटी, पेन्सिलवेनिया यूनिवर्सिटी और पेरिस में कॉलेज डी फ्रांस में विजिटिंग प्रोफेसर के पद पर कार्यरत हैं.

लिखी ये पुस्तकें

यूनिवर्सिटी में पढ़ाने के अलावा उन्होंने द पास्ट बिफोर अस : हिस्टोरिकल ट्रेडिशंस ऑफ अर्ली नार्थ इंडिया, द आर्यन : रिकास्टिंग कंस्ट्रक्टस, अर्ली इंडिया, ए हिस्ट्री ऑफ इंडिया और अशोका एंड द डिक्लाइन ऑफ द मौर्याज जैसी कई किताबें लिखीं.

हाल ही में उन्होंने गुजरात के प्रसिद्ध सोमनाथ मंदिर के इतिहास के ऊपर लेख भी लिखा है. उन्हें सरकार ने दो बार पद्म भूषण देने के लिए अपील की. मगर उन्होंने दोनों ही बार अवॉर्ड लेने से मना कर दिया.

Leave a Reply

%d bloggers like this: