Karnataka Crisis: मैं फ्लोर टेस्ट के लिए तैयार-कुमारस्वामी

  • कर्नाटक संकट पर शुक्रवार सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में सुनवाई के दौरान विधायकों की ओर से पेश हुए
  • स्पीकर और कांग्रेस का पक्ष रखते हुए अभिषेक मनु सिंघवी ने दलील दी कि इस्तीफा देने वाले इन विधायकों का इरादा कुछ अलग है और ये अयोग्यता से बचने के लिए है

नई दिल्ली. कर्नाटक में राजनीतिक संकट करीब एक हफ्ते से जारी है. इस मसले पर सुप्रीम कोर्ट मंगलवार को अगली सुनवाई करेगा. स्पीकर विधायकों के इस्तीफे और अयोग्यता पर डिसीजन नहीं ले पाएंगे.

कर्नाटक संकट पर शुक्रवार सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में सुनवाई के दौरान विधायकों की ओर से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता मुकुल रोहतगी ने कोर्ट को बताया कि अध्यक्ष ने कर्नाटक के 10 असंतुष्ट विधायकों के इस्तीफे पर फैसला नहीं लिया है.

सीएम एचडी कुमारस्वामी ने विधानसभा में स्पीकर से अपना बहुमत सिद्ध करने के लिए समय मांगा है. सीएम कुमारस्वामी ने कहा कि राज्य में जो कुछ हुआ, उसके बाद वो अपना बहुमत साबित करने के लिए तैयार हैं. उन्होंने कहा कि वो फ्लोर टेस्ट के लिए तैयार हैं.

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक विधानसभा स्पीकर रमेश कुमार (Ramesh Kuamr) को आदेश दिया है कि वो अगले मंगलवार तक कोई फैसला ना लें. इस दौरान स्पीकर ना तो विधायकों के इस्तीफे पर और ना ही अयोग्य करार होने पर फैसला ले सकते हैं. अब इस मसले पर मंगलवार को सर्वोच्च अदालत में सुनवाई होगी.

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई (CJI) ने कर्नाटक विधानसभा स्पीकर को फटकार लगाते हुए पूछा कि क्या वो सुप्रीम कोर्ट के अधिकार को चुनौती दे रहे हैं? इस पर मुकुल रोहतगी ने अपनी दलील में कहा कि स्पीकर फैसला लेने के बजाय प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे हैं.

स्पीकर और कांग्रेस का पक्ष रखते हुए अभिषेक मनु सिंघवी ने दलील दी कि इस्तीफा देने वाले इन विधायकों का इरादा कुछ अलग है और ये अयोग्यता से बचने के लिए है.

वहीं, कर्नाटक CM की तरफ से पक्ष रखते हुए वकील डॉ. राजीव धवन ने बागी विधायकों के उस आरोप पर सवाल उठाया कि स्पीकर ने दुर्भावनापूर्ण तरीके से काम किया है.

कर्नाटक विधानसभा स्पीकर की ओर से पेश हुए अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि जिन विधायकों ने इस्तीफा दिया है उनकी सदस्यता खत्म करने का मामला भी चल रहा है. ऐसे में इस्तीफे का मामला ही नहीं बनता.

मुकुल रोहतगी (Mukul Rohtagi) ने कहा कि स्पीकर ने राजनीतिक वजह से हमारा इस्तीफा मंजूर नहीं किया गया. इस पर चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि क्या विधानसभा स्पीकर सुप्रीम कोर्ट की अथॉरिटी को चैलेंज कर रहे हैं. क्या स्पीकर हमें ये कह रहे हैं कि अदालत को इससे दूर रहना चाहिए.

विधायकों की तरफ से पेश हुए मुकुल रोहतगी ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि विधानसभा स्पीकर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि विधायक सुप्रीम कोर्ट क्यों गए थे, मैं तो यहां था मेरे पास आना था. उन्होंने कहा कि स्पीकर के खिलाफ अदालत को एक्शन लेना चाहिए.

विधानसभा स्पीकर केआर रमेश कुमार ने पांच में से तीन विधायकों को आज शाम 4 बजे मिलने का वक्त दिया है. इन पांचों विधायकों ने सही फॉर्मेंट में इस्तीफा भेजा था. कर्नाटक के बागी विधायक बेंगलुरू में विधानसभा अध्यक्ष को अपने त्यागपत्र सौंपकर बृहस्पतिवार शाम मुंबई के होटल में लौट आए.

दूसरी ओर स्पीकर की तरफ से पेश हुए अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि अभी विधायकों पर सदस्यता खत्म करने का भी मामला चल रहा है, ऐसे में इस्तीफे की बात कहां से आ सकती है. स्पीकर के साथ बैठक में विधायकों ने माना है कि वह रिजॉर्ट गए लेकिन इस्तीफे के लिए स्पीकर से नहीं मिले.

कर्नाटक में राजनीतिक अस्थिरता और कांग्रेस-जेडीएस सरकार की बेहद खराब स्थिति के बावजूद राज्य विधानसभा का मानसून सत्र आज से शुरू हो रहा है। गौरतलब है कि गठबंधन सरकार के 16 विधायकों ने इस्तीफा दे दिया है.

Trending Tags- Supreme Court | Hindi Samachar | Political News

1 thought on “Karnataka Crisis: मैं फ्लोर टेस्ट के लिए तैयार-कुमारस्वामी”

Leave a Reply

%d bloggers like this: