श्रीनगर की जामिया मस्जिद में नहीं अदा हुई जुमे की नमाज, जानिए क्या है वजह

श्रीनगर, 29 नवम्बर (हि.स.). कश्मीर घाटी में जनजीवन समान्य होता देख बौखलाए आतंकियों ने अपने सहायकों के माध्यम से दुकानदारों को पोस्टरों के जरिए फिर धमकाना शुरू कर दिया है. गुरुवार को श्रीनगर के लालचौक से सटे इलाके में बंद के फरमान का धमकी भरा पोस्टर देखने के बाद ज्यादातर लोगों ने अपनी दुकानों के शटर गिरा दिए. इसके बाद यहां की सुरक्षा को और कड़ा कर दिया गया. प्रशासन ने यहां सुरक्षाबलों की गश्त बढ़ा दी है.

इसी बीच शुक्रवार को एक बार फिर श्रीनगर की एतिहासिक जामिया मस्जिद में लोगों को जुमा की नमाज अदा करने की इजाजत नहीं दी गई है. इस दौरान जामिया मस्जिद के आसपास अतिरिक्त सुरक्षाबलों का पहरा है. लोगों की आवाजाही पर नजर रखी जा रही है ताकि कोई शरारती तत्व किसी वारदात को अंजाम न दे सके. लोग स्थानीय मस्जिदों में जुमे की नमाज अदा कर रहे हैं.

कश्मीर घाटी में फिलहाल शांति है. पहले के मुकाबले कम दुकानें खुली नजर आ रही हैं. सड़कों पर वाहनों की संख्या में भी कमी आई है. सरकारी व निजी कार्यालयों में हाजिरी सामान्य है. सरकारी व निजी स्कूल खुले तो हैं लेकिन बच्चों की संख्या कम रही. रेहड़ी-फड़ी वाले गली-मोहल्लों में सामान बेचते नजर आए.

सेब की मंडियां गुलजार हैं. ट्रकों में सेब भरकर दूसरे राज्यों में भेजा जा रहा है. इसी बीच कश्मीर घाटी के अनंतनाग में मंगलवार को आतंकी हमले के बाद बैक टू विलेज 2 कार्यक्रम के लिए सुरक्षा बढ़ा दी गई है.

केंद्र शासित जम्मू-कश्मीर के सभी 20 जिलों में 30 नवम्बर तक होने वाले इस आयोजन के लिए सुरक्षाकर्मियों की तैनाती की गई है. सुरक्षाकर्मी कार्यक्रम शुरू होने से खत्म होने तक तैनात रहेंगे. कार्यक्रमों में शामिल होने वाले पंचों-सरपंचों की सुरक्षा भी बढ़ाई गई है. इन्हें घरों तक सुरक्षित पहुंचाया जाएगा.

इसी दौरान कश्मीर घाटी में लैंडलाइन फोन सेवा और पोस्टपेड मोबाइल सेवा सुचारू है. सुरक्षा की दृष्टि से जम्मू-कश्मीर में मोबाइल इंटरनेट सेवा बंद है. उसे सर्शत बहाल करने के प्रयास प्रशासन ने शुरू किया है. सभी संवेदनशील इलाकों में अतिरिक्त सुरक्षाबल तैनात हैं.

हिन्दुस्थान समाचार/बलवान/मुकुंद

Leave a Reply