कोविड-19 वैक्सीन के ट्रायल करने के तीसरे चरण में पहुंची अमेरिकी की ये कंपनी

corona vaccine
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp
  • फ़ाइज़र दावा : वैक्सीन अगले महीने के आख़िर में मार्केट में आ जाएगी
  • वैक्सीन के मार्केट में आने के समय को लेकर राजनीति शुरू

अमेरिकी कंपनी ‘जाॅनसन एंड जाॅनसन’ सिंगल डोज़ वाली कोविड-19 वैक्सीन के तीसरे क्लीनिकल ट्रायल में पहुंच गई है. ‘इबोला’ वैक्सीन की सफल रचियता ‘जाॅनसन एंड जाॅनसन’ ने बुधवार को कहा कि उसने अमेरिका सहित दुनिया के 200 शहरों में 60 हजार लोगों पर क्लीनिकल ट्रायल करने का प्रावधान किया है.

कंपनी का दावा है कि सबकुछ ठीकठाक रहा तो अगले साल की शुरुआत में वैक्सीन मार्केट में आ जाएगी. माडरेना और ब्रिटिश कंपनी Astrazeneca ने भी नए साल के शुरू में वैक्सीन लॉच करने के दावे किए हैं. फाइजर ने अगले महीने के अंत तक अपनी वैक्सीन निकाले जाने का दावा किया है.

अमेरिका की नामी कंपनी फाइजर और मॉडर्ना के बाद यह चौथी बड़ी कंपनी है, जो कोरोना वैक्सीन विकसित करने में लगी है. दुनिया में ऐसी दस कंपनियां हैं, जो अपने क्लीनिकल ट्रायल के आधार पर तीसरे और अंतिम क्लीनिकल ट्रायल के दौर में पहुंच चुकी हैं. इसी के साथ अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के मद्देनजर राजनीति भी शुरू हो गई है.

डब्ल्यूएचओ ने दावे के साथ कहा है कि अगले साल के मध्य तक किसी भी वैक्सीन के मार्केट में आने की संभावना नहीं है, तो डेमोक्रेट नेता भी वैक्सीन के साल के अंत तक आने की संभावनाओं पर शंकाएं जता रहे हैं. वहीं राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने बुधवार को संक्रामक रोग विभाग (सीडीसी) के निदेशक राबर्ट को जमकर लताड़ा है कि उसने किस हैसियत से कह दिया कि कोई भी वैक्सीन इस साल के अंत तक नहीं आ पाएगी. राष्ट्रपति यह बार-बार कह चुके हैं कि वैक्सीन अगले महीने के अंत तक आ जाएगी. यह वैक्सीन अगली जुलाई तक अमेरिका के अधिकतर लोगों को लगा दी जाएगी.

हिन्दुस्थान समाचार/ललित मोहन बंसल