जामिया हिंसा मामले में जांच की मांग, दिल्ली हाईकोर्ट ने सुनवाई टाली

delhi high court
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

नई दिल्ली, 04 फरवरी (हि.स.). दिल्ली हाईकोर्ट ने जामिया हिंसा मामले में जांच की मांग करने वाली याचिका पर सुनवाई टाल दिया है. इस मामले पर अगली सुनवाई 29 अप्रैल को होगी.

आज सुनवाई के दौरान सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने चीफ जस्टिस डीएन पटेल की अध्यक्षता वाली बेंच से कहा कि जांच अहम मोड़ पर है और उसे पूरा होने दिया जाए, तभी हम उचित जवाब दे पाएंगे.

सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ताओं की ओर से वरिष्ठ वकील कॉलिन गोंजाल्वेस ने कहा कि जामिया के 93 छात्र घायल हुए. छात्रों ने सीसीटीवी फुटेज के साथ शिकायत भी की.

उन्होंने ललिता कुमारी के केस का हवाला देते हुए कहा कि इन शिकायतों के आधार पर एफआईआर दर्ज की जाए. तब तुषार मेहता ने कहा कि कई एफआईआर दायर करने से बेहतर है कि एक समग्र एफआईआर दर्ज किया जाए.

सुनवाई के दौरान वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह ने कहा कि हाईकोर्ट के पहले के आदेश का पालन नहीं किया गया क्योंकि कोई जवाब दाखिल नहीं किया गया है. अगर उन्हें जवाब दाखिल करने के लिए समय चाहिए तो उसके लिए भी एक हलफनामा दाखिल होना चाहिए. उसके बाद कोर्ट ने 29 अप्रैल तक जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया.

हाईकोर्ट ने 19 दिसम्बर 2019 को छात्रो के खिलाफ पुलिस की कार्रवाई पर रोक की मांग ठुकरा दी थी. कोर्ट ने केंद्र सरकार और दिल्ली पुलिस को नोटिस जारी किया था.

19 दिसंबर को जब कोर्ट ने छात्रो के खिलाफ़ गिरफ्तारी और पुलिस कार्रवाई पर रोक लगाने से इंकार कर दिया था तो चीफ जस्टिस डीएन पटेल की कोर्ट में ही कुछ वकीलों ने शर्म, शर्म के नारे लगाए थे.

चीफ जस्टिस बिना कोई रिएक्शन दिये उठकर अपने चैम्बर में चले गए थे. उसके बाद 20 दिसम्बर 2019 को हाईकोर्ट ने कुछ वकीलों की मांग पर इस मामले की जांच के लिए एक कमेटी का गठन कर कार्रवाई करने की बात कही थी.

हिन्दुस्थान समाचार/संजय