जांच के लिए चुने गए आईटीआर में से मामलों का प्रतिशत वर्ष 2018-19 में घटकर 0.25 प्रतिशत

बिजनेस शुरू करने से पहले जरूर जान लें ये बात | business news in hindi
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

नई दिल्ली, 05  अगस्त (हि.स.). आयकर विभाग ने  कहा है कि जांच के लिए चुने गए रिटर्न में से मामलों का प्रतिशत वर्ष 2018-19 में घटकर 0.25 प्रतिशत पर आ गया है. वित्त मंत्रालय ने एक ट्वीट में कहा कि बेहतर करदाता सेवाओं को सुविधाजनक बनाने के लिए आयकर विभाग सिर्फ प्रवर्तन से बदल रहा है.

उसी की निरंतरता में, जांच के लिए चुने गए मामलों की संख्या में भारी कमी आई है. वित्त मंत्रालय ने कहा कि जारी किए गए आधिकारिक आंकड़ों से पता चलता है कि आयकर जांच के मामलों की संख्या 2015-16 में 0.71 प्रतिशत, 2016-17 में 0.40 प्रतिशत, 2017-18 में 0.55 प्रतिशत और 2018-19 में 0.25 प्रतिशत थी.

हालांकि मंत्रालय ने इन वर्षों के दौरान जांच के लिए उठाए गए मामलों की पूर्ण संख्या नहीं दी।राज्यवार आंकड़ों के मुताबिक ओडिशा में संवीक्षा के मामले वर्ष 2018-19 में घटकर 0.12 प्रतिशत हो गए, जो इससे पहले वर्ष में 0.37 प्रतिशत था. इसी तरह पंजाब के लिए, यह 2018-19 में 0.40 प्रतिशत से घटकर 0.14 प्रतिशत हो गया.

वर्ष 2018-19 में ओडिशा में 10.29 लाख आईटीआर दाखिल किए गए, जबकि 2017-18 में 8.31 लाख।पंजाब में, 27.65 लाख आयकर रिटर्न 2018-19 में दायर किए गए, 23.44 लाख  रिटर्न 2017-18 में दायर किए गए थे. पश्चिम बंगाल में में 38.93 लाख लोगों ने वर्ष 2018-19 में आयकर रिटर्न दाखिल किया। वहीं वर्ष 2017-18 में यह संख्या 33.34 लाख थी.

 हिन्दुस्थान समाचार/ गोविन्द