ISRO ने ऐसे FANI के दौरान बचाई लोगों की जान

बंगाल की खाड़ी में बना चक्रवाती तूफान फानी ने ओडिशा में भारी तबाही मचाई है. माना जा रहा है कि ISRO की सैटेलाइट्स ने तूफान के बारे में पहले ही चेतावनी दी थी. इस चेतावनी के कारण ही राज्य सरकार 11 लाख लोगों को सकुशल सुरक्षित स्थान पर पहुंचा सकी थी.

तूफान में हुई भारी तबाही

ओडिशा में आए तूफान ने बिजली और टेलिफोन के खंबों तक को उखाड़ फेंका. इससे न सिर्फ बसों और कारों के शीशे टूटे बल्कि कई कारें तूफान के साथ बह गईं. मौसम विभाग के मुताबिक ये तूफान बीते 43 सालों का सबसे खतरनाक तूफान है. इस तूफान की चपेट में आकर अबतक लगभग 16 लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा है.

हर 15 मिनट में मिल रही थी चेतावनी

खास बात रही कि ISRO की सैटेलाइटें हर 15 मिनट में इस भयंकर तूफान से जुड़ी ताजा जानकारी मौसम विभाग के वैज्ञानिकों को मुहैया करा रही थी. इस तूफान पर ISRO की 5 सैटेलाइटों की नजर थी.

इससे प्रभावित इलाकों से लोगों को समय पर निकालने में मदद मिली. सैटेलाइटों की की मदद से फानी की हर मूवमेंट की सटीक जानकारी मिलती रही. इस सटीक जानकारी से सैंकड़ों जिंदगियां बचाई जा सकीं.

समय पर बचाईं गई जिंगदियां

सैटेलाइटों से मिली सटीक जानकारी के कारण समय पर सैंकड़ों जिंदगियों को बचाया जा सका. समय रहते ही उन्हें सुरक्षित जगह पर शिफ्ट किया गया. Scatsat-1 से भेजे गए डेटा से चक्रवाती तूफान के केंद्र पर नजर रखी गई, वहीं Oceansat-2 समुद्री सतह, हवा की गति और दिशा के बारे में डेटा भेज रहा था.

%d bloggers like this: