महिला ने प्रदर्शन के दौरान उतारा हिजाब तो कोर्ट ने सुनाई 24 साल की सजा, जानिए कहां का है पूरा मामला

नई दिल्ली. ईरान में एक मामला सामने आया है जहां पर एक महिला ने विरोध जताने के लिए हिजाब उतार दिया तो उसको 20 साल की सजा सुनाई गई है.

बुर्के के खिलाफ ‘व्हाइट वेडनसडे’ कैंपेन चलाने वाली 20 साल की युवती अफसरी को तेहरान की रिवोल्यूशनरी कोर्ट द्वारा सजा सुनाए जाने की दुनिया भर में निंदा की जा रही है. बता दें कि ईरान में हिजाब जरूरी है.

इसके बाद पुलिस ने हिजाब हटाने के जुर्म में ईरानी पुलिस द्वारा इन 29 महिलाओं को गिरफ्तार किया गया था. इसी के चलते इस महिला को 20 साल की सजा सुनाई गई है.

सजा सुनाते हुए जज ने कहा कि महिलाओं का हिजाब उतरवाकर आपने देश में भष्टाचार और वेश्यावृत्ति को बढ़ावा दिया है. इसलिए 24 में से 15 साल की सजा आपको इन दो अपराधों के लिए दी जा रही है.

ईरान में अगर कोई महिला इस कानून का उल्लंघन करती है तो उसे भारी जुर्माना और सजा कटनी पड़ती हैं. सार्वजनिक स्थानों और सड़कों पर बिना हिजाब दिखाई देने वाली महिलाओं को दस दिन से दो महीने तक का कारावास या 50 हजार से पांच सौ रिया की सजा हो सकती है.

सोशल मीडिया पर हिजाब के खिलाफ ईरान में अभियान चलाया जा रहा है जिसमें महिलाओं को बिना हिजाब पहने तस्वीर शेयर किए जाने की अपील की जा रही है. इसे महिला सशक्तिकरण से जोड़कर देखा जा रहा है.

ईरान की कई महिलाएं पिछले दिनों आगे आईं थी और उन्‍होंने अनिवार्य हिजाब या बुर्का को उतार कर फोटोग्राफ सोशल मीडिया पर पोस्‍ट की थी. जिसके बाद काफी बवाल भी हुआ था.

Leave a Reply

%d bloggers like this: