भारत के इस गुरु की वजह से फेसबुक और एप्पल ने पाया ये मुकाम
  • कामयाबी से ज्यादा रिस्क फैक्टर होते है.और इन रिस्क फैक्टर्स से तो बड़े-बड़े बिजनेसमैन नहीं बच पाएं
  • एप्पल के को-फाउंडर स्टीव जॉब्स 24 फरवरी 1955 को कैलिफोर्निया के सेन फ्रांसिस्को में पैदा हुए थे

नई दिल्ली. कहते हैं आध्यात्म और साइंस के बीच वर्चुअल रियलिटी का फर्क होता है.कई बार साइंस भी वो नहीं कर पाता.जो आध्यात्म कर दिखाता है..कुछ ऐसी ही कहानी है तालों के शहर नैनीताल में बसे कैंची धाम की.आज के मार्डन वर्ल्ड में  दिनों का काम घेंटों में,घंटों का काम मिनटों में, और मिनटों का काम सेंकेडों में हो जाता है.ऐसे समय में लोग भी कम समय में ही सफलता हासिल करना चाहते हैं.  लेकिन जरुरी नहीं की हर किसी को पहली बारी सफलता मिल जाए.खास तौर पर जब बात बिजनेस की हों तो.

कामयाबी से ज्यादा रिस्क फैक्टर होते है.और इन रिस्क फैक्टर्स से तो बड़े-बड़े बिजनेसमैन नहीं बच पाएं.लेकिन अब आप सोच रहेंगे कि बात कैंची धाम की हो रही थी.फिर बिजनेस में लॉस का कैंची धाम से क्या कनेक्शन

कैची धाम के बारे में अनकहीं बातें-

चलिए आपको बताते हैं क्या कैंची धाम और इसमें रहने वाले करैली बाब के रहस्य के बारे में और जानेगें की क्यों है ये मंदिर बिजनेसमैनस के लिए खास.किस्मत बनाने वाले करौली बाबा.जी हां कहा तो यही जाता है कि जिसने करौली बाबा के दर्शन कर लिए उसकी किस्मत मिनटों में बदल जाती है. नैनीताल के कैची धाम वाले नीम करौली बाबा के भक्तों की नाम आप सुनेगें तो चौक जाएंगें…बाबा नीम करौली के भक्त दुनिया भर में हैं.दुनिया के दिग्गज से दिग्गज लोग बाबा के सामने अपने सिर झुकाते हैं.

एप्पल के सीईओ हैं बाबा के भक्त

बाबा के भक्तों में एप्पल कंपनी के संस्‍थापक स्टीव जॉब्स बाब, फेसबुक प्रमुख मार्क जुकरबर्ग और हॉलीवुड अभिनेत्री जूलिया रॉबर्ट्स तक का नाम शामिल है. इस मंदिर में मत्था टेकने सात समंदर पार से भी लोग पहुंचते हैं.मान्‍यता है कि एक बार यहां पहुंचने वाला कोई खाली हाथ नहीं लौटता.. बाबा सभी की मुरादों को पूरा करते हैं.

एप्पल के को-फाउंडर स्टीव जॉब्स 24 फरवरी 1955 को कैलिफोर्निया के सेन फ्रांसिस्को में पैदा हुए थे. कहने को जॉब्स हमारे बीच नहीं है, लेकिन अपने इनोवेशन के जरिए वो आने वाले दशकों तक करोड़ों दिलों में राज करेंगे. कैंसर की बीमारी से पीडि़त जॉब्स की मौत 5 अक्टूबर 2011 को हो गई. कम लोग जानते हैं कि जीवन का ज्ञान उन्हें भारत से मिला था.दरअसल, साल 1974 में कुछ बड़ा पाने की ख्वाहिश में वे भारत आए थे.जीवन का ज्ञान लेने के लिए वे अपने दोस्त के साथ नैनीताल स्थित नीम करौली बाबा के कैंची आश्रम पहुंचे.वहां वो अपने चमत्कारों के लिए विश्व विख्यात बाबा से मिले और उनके विचारों से वे प्रभावित हो गए.वहां उन्हें ऑटोबायोग्राफी ऑफ एन योगी नाम की किताब मिली.

इस किताब को उन्होंने कई बार पढ़ा. इसी किताब के बारे में स्टीव जॉब्स ने बताया था कि इसने उनके सोचने का नजरिया और विचारों को बदल दिया. एप्पल के लोगो का आइडिया स्टीव को बाबा के आश्रम से ही मिला, कहा जाता है नीम करौली बाबा को सेब बड़े पसंद थे और वह बड़े ही चाव से सेब खाया करते थे, इसी वजह से कहा जाता है के स्टीव ने अपनी कंपनी के लोगो के लिए एप्पल को चुना और करोड़ों के मालिक बन गए.

ऐसे कैची धाम से जुड़े मार्क जुकरबर्ग

अब बात अगर फेसबुक के संस्थापाक मार्क जुकरबर्ग की जाए तो 27 सितंबर 2015 को जब पीएम मोदी फेसबुक के मुख्यालय में थे और बातों का दौर चल ही रहा था. कि इसी दौरान जुकरबर्ग ने कहा था कि जब वे इस असमंजस में थे कि फेसबुक को बेचा जाए या नहीं, तब एप्पल के फाउंडर स्टीव जॉब्स ने इन्हें भारत के एक मंदिर में जाने की सलाह दी थी.  वहीं से इन्हें कंपनी के लिए नया मिशन मिला. जुकरबर्ग ने बताया था कि वे एक महीना भारत में रहे. इस दौरान उस मंदिर में भी गए थे. जुकरबर्ग गए तो एक दिन के लिए थे, लेकिन मौसम खराब हो जाने के कारण उन्हें वहां पर दो दिन तक रूकना पड़ गया.उस मंदिर में रुकने के बाद उन्हें अध्यात्मिक शांति मिली और फेसबुक को आगे बढ़ाने के नए आइडिया आए…जिसके बाद उन्होंने फेसबुक को एक नए मुकाम तक पहुंचा दिया.

जूलिया रॉबर्ट्स का कैची धाम से कनेक्शन

ऐसी ही कुछ कहानी हॉलीवुड अभिनेत्री जूलिया रॉबर्ट्स की भी है.कहा जाता है कि उन्हें फिल्में नहीं मिल रही थी और वो डिप्रेशन का शिकार होती जा रही थी. उनका कैरियर लगभग ठप होने पर ही था. फिर उन्हें किसी ने इस मंदिर के बारे में बताया.जिसके बाद वो इस मंदिर में आई.इस मंदिर में आने के बाद उन्हें अध्यात्मिक शांति मिली और उन्हें उन्होंने अपने कैरियर को नए मुकाम तक पहुंचा दिया.

Trending Tags- Technical News in Hindi | Online News in Hindi | Hindi Samachar

1 thought on “भारत के इस गुरु की वजह से फेसबुक और एप्पल ने पाया ये मुकाम”

Leave a Comment

%d bloggers like this: