शुरू होने से पहले ही रेलवे को बंद करनी पड़ी अपनी ये योजना

नई दिल्ली.चलती ट्रेनों में यात्रियों को मालिश की सुविधा देकर राजस्व कमाने की रेलवे की ऐतिहासिक योजना शुरू होने से पहले ही बंद हो गई है.रेलवे ने सियासि विरोध के चलते अपने इस योजना के प्रस्ताव को वापस ले लिया है.

रेलवे ने शनिवार को इंदौर से चलने वाली ट्रेनों में सिर और पांव मालिश की सुविधआ देने वाले अपने अनोखे पस्ताव को रद्द कर दिया.रेलवे ने ये कदम महिला यात्रियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए उठाते है.

रेलवे ने रद्द की मालिश योजना-

रेलवे के डब्ल्यूआर के मुख्य प्रवक्ता रविंदर भाकर ने कहा कि सिर और पांव मालिश सेवा की शुरुआत रतलाम खंड द्वारा की गई है. लेकिन जैसे ही उच्च अधिकारियों कि इस बात की जानकारी मिलि उन्होंने इसे खारिज कर दिया.

उच्च अधिकारियों का कहना है कि रेलवे यात्री सुविधा में सुधार के लिए दूसरे प्रस्ताव लेकर आए.इसलिए रेलवे अब इस पर काम करने में लगा हुआ है.डब्ल्यूआर मालिश सेवा के बदले क्या किया जाए और राजस्व कमाने को कैसे बढ़ाया जाए इस पर विचार कर रहा है.

39 ट्रेनों में शुरू होनी थी ये योजना-

आपको बता दें कि रेलवे मसाज की ये सुविधा इंदौर से चलने वाली 39 ट्रेनों में शुरू करने वाला था.ताकि उसका राजस्व बढ़ सके और रेलवे का घाटा कम हो सके.रेलवे देहरादून-इंदौर एक्स.,नई दिल्ली-इंटौर इंटरसिटी एक्स और इंटौर अमृतसर एक्स के अलावा बाकी 36 ट्रेनों में शुरू करने पर विचार कर रहा था.

सुमित्रा महाजन ने किया था विरोध-

कुछ रिपोर्टस की माने तो इस योजना से रेलवे को हर साल 20 लाख रुपयों का फायदा होता.लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने मालिश सेवा की इस बहुचर्चित योजना को लेकर रेल मंत्री पीयूष गोयल को शुक्रवार को पत्र लिखा था. महाजन ने पत्र में पूछा था, इस प्रकार की (मालिश) सुविधा के लिये चलती रेलगाड़ी में किस तरह की व्यवस्था की जायेगी. क्योंकि इससे यात्रियों, विशेषकर महिलाओं की सुरक्षा एवं सहजता के संबंध में कुछ प्रश्न हो सकते हैं.

Leave a Comment

%d bloggers like this: