पुलवामा हमले पर भारत का बड़ा फैसला, अब प्यासा मरेगा पाकिस्तान

पुलवामा हमले के बाद से पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिए खिलाफ भारत कोई कसर नहीं छोड़ रहा है. पाकिस्तान से MNF का दर्जा छीनकर उसके व्यापार की कमर तोड़ने के बाद अब केंद्र सरकार उसे प्यासा मारने की सोच रही है.

पाक को सबक सिखाने के लिए भारत ने पाकिस्तान जाने वाले अपने हिस्से के पानी को रोकने का फैसला किया है. केंद्र सरकार के इस नए फैसले से पाक में पानी की किल्लत हो जाएगी. और आतंक को पालने वाला पाक अब प्यास से मर जाएगा.

केंद्रीय जल संसाधन मंत्री नितिन गडकरी ने ट्वीट कर कहा कि अब तीन नदियों का पानी पाकिस्तान नहीं जाने दिया जाएगा. उन्होंने ट्वीट किया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार ने फैसला लिया है कि पाकिस्तान जाने वाला भारत के हिस्से का पानी अब वहां नहीं जाने दिया जाएगा.

नितिन गडकरी ने कहा कि भारत सरकार ने अब तक पाक को दिए जा रहे ब्यास, रावी और सतलुज नदी के पानी को रोकने का फैसला किया है. उन्होंने बताया कि  इन तीनों नदियों पर बने प्रॉजेक्ट्स की मदद से पाक को दिए जा रहे पानी को अब पंजाब और जम्मू-कश्मीर की नदियों में प्रवाहित किया जाएगा.

पुलवामा हमले के हफ्तेभर में भारत ने पाकिस्तान पर चौतरफा दबाव बनाना शुरू कर दिया है. भारत ने दुनिया में पाकिस्तान को अलग-थलग करने की कोशिश में लगा है. भारत की कोशिश है कि किसी भी तरह की सैन्य कार्रवाई से पहले पाकिस्तान की ऐसी हालत कर दी जाए कि वो गिड़गिड़ाने लगे.

पाकिस्तान में जाने वाले अपने हिस्से के पानी को रोकने से पहले भारत, पाकिस्तान से MFN का दर्जा छीन चुका है. इसके साथ ही पाकिस्तान से आने वाली सभी तमाम चीजों पर 200 फीसदी आयात शुल्क लगा दिया है. पाकिस्तान से आने वाली वस्तुओं पर 200 फीसदी आयात शुल्क लगने से पाकिस्तानी कारोबार ठप हो गया है.

इसके साथ ही भारतीय सीमेंट व्यापारियों ने पाकिस्तान को सबसे बड़ा झटका दिया है. भारतीय व्यापारियों ने पाकिस्तान से सीमेंट के आयात पर ब्रेक लगा दिया है. उन्होंने पाकिस्तान से आए सीमेंट के 600-800 कंटेनरों को वापस कर दिया है. हजारो ट्रक बाघा बॉर्डर पर खड़े हैं, भारतीय व्यापारियों ने दिया हुआ ऑर्डर भी लेने से इंकार कर दिया है.