IND vs SA: साउथ अफ्रीका के खिलाफ रांची टेस्ट की शुरूआत कल, क्लीनस्वीप करना चाहेगी टीम इंडिया

खेल डेस्क. साउथ अफ्रीका के खिलाफ घरेलू टेस्ट सीरीज को भारतीय क्रिकेट टीम पहले ही अपने नाम कर चुकी है. अब शनिवार को रांची में शुरू होने वाला तीसरे टेस्ट मैच में भी टीम इंडिया क्लीन स्वीप के इरादे से मैदान पर उतरेगी.

आखिरी मुकाबले में विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के लिए महत्वपूर्ण अंक दांव पर लगे होंगे. ऐसे में टीम इंडिया के कप्तान कोहली कोई भी कोताही नहीं बरतना चाहेंगे. इस मैच में जीत दर्ज करने वाली टीम को 40 अंक मिलेंगे.

भारत ने तीन टेस्ट मैच की सीरीज के पहले दो टेस्ट मैच में अफ्रीकी टीम को आसानी से शिकस्त दी. इसकी एक वजह ये भी है कि दक्षिण अफ्रीका के ज्यादातर खिलाड़ी अब नए है और उन्हें भारत में खेलने का अनुभव नहीं है.

लेकिन सीरीज शुरू होने से पहले उम्मीद ये की जा रही थी कि कप्तान फॉफ डू प्लेसिस की कप्तानी में अफ्रीकी टीम भारतीय टीम को कड़ी चुनौती देगी. मगर अफ्रीकी खिलाड़ी अच्छा खेल दिखाने में नाकाम रहे.

जिस वजह से भारत ने सीरीज पर आसानी से अपना कब्जा कर लिया. भारत ने इस सीरीज में हर विभाग में विरोधी टीम पर अपना दबदबा बनाए रखा. भारत ने विशाखापत्तनम में 203 रन से जीत दर्ज की थी.

इसके बाद पुणे टेस्ट में भी भारत ने अफ्रीकी टीम को एक पारी और 137 रनों से हराया था. विश्व चैंपियनशिप में भारत के अभी चार मैचों में 200 अंक हैं और उसने अपने करीबी प्रतिद्वंद्वी न्यूजीलैंड और श्रीलंका पर 140 अंकों की बड़ी बढ़त बना रखी है.

इस सीरीज में भारत के बल्लेबाज और गेंदबाजों ने दमदार खेल दिखाया है. रोहित ने लंबे प्रारूप में सलामी बल्लेबाज के रूप में अपनी भूमिका बखूबी निभाई है. उन्होंने पहले टेस्ट मैच में पहली बार पारी का आगाज करते हुए दोनों पारियों में शतक जड़ा था.

रोहित के जोड़ीदार मयंक अग्रवाल ने विशाखापत्तनम में दोहरा शतक लगाया था. वहीं पुणे में भी वह सैकड़ा जमाने में सफल रहे. जबकि टीम के कप्तान कोहली ने 254 रन की पारी खेली थी.

रोहित पुणे टेस्ट की नाकामी को पीछे छोड रांची में अपनी पारी का बेसब्री से इंतजार कर रहे होंगे. सीरीज में दो अर्धशतक लगाने वाले चेतेश्वर पुजारा तिहरे अंक तक पहुंचने की कोशिश करेंगे.

उमेश यादव और विकेटकीपर रिद्धिमान साहा भी टीम के लिए सुखद रही है. कोहली ने पुणे में उमेश के रूप में अतिरिक्त तेज गेंदबाज को टीम में जगह दी थी. इसलिए हनुमा विहारी को अंतिम एकादश में जगह नहीं मिल पाई थी.

अब ये देखने वाली बात होगी कि कोहली रांची में किस कॉम्बिनेशन के साथ मैदान पर उतरेंगे. अफ्रीकी बल्लेबाजों ने पहले टेस्ट में कुछ दम दिखाया था लेकिन पुणे में वे पूरी तरह नाकाम रहे थे.

सीरीज के आखिरी टेस्ट में डु प्लेसिस को डीन एल्गर, डी कॉक और टेम्बा बावुमा जैसे अनुभवी बल्लेबाजों से अच्छी बल्लेबाजी की उम्मीद होगी. एडेन मार्करम और केशव महाराज के चोटिल होने होने से मेहमान टीम की परेशानिया भी बढ़ गई है.

अफ्रीका टीम के गेंदबाज कगीसो रबाडा, वर्नोन फिलेंडर और एनरिक नोर्त्जे अब तक भारतीय तेज गेंदबाजों की तरह प्रभावी नहीं रहे हैं. ऐसे में दक्षिण अफ्रीकी टीम के गेंदबाजों पर दबाव तो जरूर होगा.


Leave a Comment

%d bloggers like this: