भारत बंद करे पैलेट गन का इस्तेमाल-यूएन चीफ

DDDD
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

नई दिल्ली. यूएन ने ‘बच्चे और सैन्य संघर्ष’ विषय पर सालाना रिपोर्ट जारी की है. एंटोनियो गुटेरस (Antonio Guterres) ने एक बार फिर से इस विवादित मुद्दा को छुआ है. गुटेरस ने जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में बच्चों की मौत पर चिंता जताई है. यूएन चीफ कई बार जम्मू कश्मीर के मुद्दे पर भारत विरोधी रूख दिखा चुके हैं.

यूएन महासचिव की तरफ से उनकी विशेष यूएन प्रतिनिधि (बच्चे व सैन्य संघर्ष) वर्जीनिया गाम्बा ने ये रिपोर्ट सोमवार को जारी की है. रिपोर्ट में सबसे ज्यादा चिंताजनक हालात यमन, माली, केंद्रीय अफ्रीकी रिपब्लिक (सीएआर), इस्राइल, फलस्तीन और सीरिया में बताए गए हैं.

इस दौरान यूएन चीफ ने कहा, जम्मू-कश्मीर में बच्चों के हताहत होने को लेकर मैं चिंतित हूं और सरकार से मांग करता हूं कि वो बच्चों की सुरक्षा के लिए कदम उठाते हुए उनके खिलाफ पैलेट गन का इस्तेमाल बंद करा दे.

रिपोर्ट में कहा गया है कि यूएन (UN) ने जनवरी से दिसंबर 2019 तक वैश्विक स्तर पर बच्चों के साथ 25 हजार से ज्यादा जघन्य अपराध होने की पुष्टि की है.

गुटेरस ने कहा, मैं बच्चों को हिरासत में लेने, रात में छापेमारी के दौरान गिरफ्तार करने, सेना के शिविरों में नजरबंदी, हिरासत के बाद प्रताड़ित करने और बिना किसी आरोप के प्रताड़ित करने को लेकर भी चिंतित हूं.

गुटेरस ने नक्सलवादी हिंसा का भी संज्ञान लिया है और कहा है कि भारत सरकार की कोशिशों से इन संगठनों में बच्चों को भर्ती करने, उनकी हत्या करने और अपंग बनाने की घटनाओं में कमी आई है.