Al nagah
Al nagah

ओमान में चल रहा भारत-ओमान संयुक्त सैन्य अभ्यास ‘अल नागाह (त्तृतीय) 2019’ मंगलवार की सुबह जबल रेजिमेंट, निजवा, ओमान में शानदार तरीक से संपन्न हो गया. समापन समारोह में दोनों राष्ट्रों के पर्यवेक्षक प्रतिनिधि समूह मौजूद रहे.

भारतीय सेना और ओमान की रॉयल सेना (आरएओ) के संयुक्त अभ्यास समारोह में दोनों देशों के राष्ट्रीय ध्वज फहराए गए और दोनों देशों के सैनिक ओमान तथा भारत के बढ़ते सैन्य सहयोग, सहकार्य और दोनों देशों के बीच समझदारी का संकेत देते हुए एक-दूसरे के साथ खड़े दिखे.

एक दस्ते का नेतृत्व वहां की रॉयल सेना के जबल रेजिमेंट ने किया, जबकि भारतीय सेना का नेतृत्व गढ़वाल राइफल रेजिमेंट की 10वीं बटालियन की टुकड़ी द्वारा किया गया. भारतीय सेना और आरएओ दस्तों का चयन विशेषज्ञता और पेशेवर दक्षता के आधार पर अभ्यास के लिए किया गया है.

दो सप्ताह के लम्बे अभ्यास में दोनों देश के सैनिक संयुक्त राष्ट्र घोषणा के अंतर्गत पर्वतीय इलाकों में संयुक्त रूप से आतंकवाद विरोधी कार्रवाईयों में अपनी निपुणता और तकनीकी कौशल दिखाया.

संयुक्त अभ्यास में सैनिकों को एक-दूसरे स्थान पर लाने ले जाने के काम पर जोर दिया गया, जोकि संयुक्त अभ्यास की सफलता के लिए महत्वपूर्ण है. अभ्यास में यह भी दर्शाया गया कि संभावित खतरों को समाप्त करने के लिए दोनों देश के सैनिक अति-विकसित निपुणता ड्रील के लिए संयुक्त प्रशिक्षण और नियोजन का कार्य करेंगे.

दोनों देशों के विशेषज्ञों ने पारस्परिक लाभ के विभिन्न विषयों पर चर्चा की ,जिसमें यह तय हुआ कि अल नागाह-2019 दोनों देशों की सेनाओं के बीच आपसी समझदारी और सम्मान बढ़ाएगा और आतंकवाद की विश्वव्यापी समस्या से निपटने में सहायक होगा.

भारतीय पक्ष का प्रतिनिधित्व ओमान के भारतीय राजदूत मुनु महावर और प्रमुख जनरल एके सामंतरा ने किया. रॉयल ओमान सेना का प्रतिनिधित्व मेजर जनरल बिन सलीम बिन राशिद अल बलुशी और कई वरिष्ठ अधिकारियों ने किया.

दोनों दलों के आकस्मिक कमांडरों ने अभ्यास के बारे में बताते हुए कहा कि दो सप्ताह की लंबी कवायद 12 मार्च को शुरू हुई थी. भारतीय सेना के 60 सैनिकों ने ओमान की शाही सेना के साथियों की समान ताकत के साथ अभ्यास में भाग लिया था.

माना जा रहा है कि प्रशिक्षण अल नागाह दोनों राष्ट्रों के बीच के संबंधों को और मजबूत बनाने में एक लंबा मुकाम हासिल करेगा और संयुक्त राष्ट्र के तहत बेहतर तालमेल बिठाने में एक नई मिसाल पेश होगी.

हिन्दुस्थान समाचर/जितेन्द्र बच्चन