कोरोना के खिलाफ साथ आए भारत और इजरायल, 30 सेकंड में परिणाम देने वाले रैपिड टेस्टिंग किट पर कर रहे काम

1495707122-566
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp
  • कोरोना से लड़ाई में भारत और इजरायल साथ
  • 30 सेकेंड में होगी कोरोना की जांच
  • आवाज से लेकर सांस तक से लगाया जा सकता है कोरोना का पता

भारत में बढ़ते कोरोना मामलों के बीच सरकार का जोर टेस्टिंग को बढ़ाने पर है. इसी कड़ी में भारत (India) और इजरायल (Israel) के वैज्ञानिक मिलकर मगज 30 सेकंड में परिणाम देने वाले रैपिड टेस्टिंग किट (Rapid testing kit) पर काम कर रहे हैं. खास बात तो ये भी है कि इस किट की कीमत अब तक की तमाम किटों के मुकाबले बहुत सस्ती होगी.

इस खोज के लिए इसी हफ्ते इजरायल के वैज्ञानिकों का एक दल भारत आने वाला है. इजराइल के वैज्ञानिकों का ये दल भारत में लाखों लोगों पर इस तकनीक का टेस्ट करेगा और अगर ये सफल रहा तो यहां इसका बड़े पैमाने पर उत्पादन भी किया जाएगा.

खास बात तो ये है कि भारत और इजरायल मिल कर 1-2 नहीं 4 तरीकों से खोज करने वाले हैं…. अगर वो सफल हो गए तो ये वाकई में एक गेमचेंजर साबित होगा है.

क्या हैं वो 4 कोरोना टेस्ट के तरीके?

  • इनमें से दो Covid-19 टेस्ट ऐसे हैं, जो लार (Saliva) के सैंपल से कुछ मिनटों में परिणाम दे सकते हैं.
  • तीसरा तरीका, जो सबसे अनोखा है. वो यह कि किसी व्यक्ति की आवाज सुन कर ही उसनें कोरोनावायरस का पता लगाया जा सकता है.
  • वहीं चौथे और आखिरी तरीके से सांस के सैंपल के रेडियो वेव से संक्रमण का पता लगाया जा सकेगा.

बता दें कि इजरायल की ये टीम भारत के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार के. विजयराघवन और DRDO के साथ रैपिड टेस्टिंग किट विकसित करने पर काम कर रही है. भारत के विकास एवं उत्पादन क्षमताओं के साथ इजराइली टेक्नॉलजी की साझेदारी से कोरोना महामारी के बीच सामान्य जनजीवन को पटरी पर लाने का काम किया जाएगा. वहीं एक अच्छी खबर ये भी है कि इजराइल से मैकनिकल वेंटिलेटर भी आएंगे, जिसकी इजराइल सरकार ने भारत को निर्यात करने की अनुमति दी है.

मोदी और नेतन्याहू के बीच द्विपक्षीय मुलाकातों में जबरदस्त केमेस्ट्री नजर आती रही है. यही नहीं कोरोना वायरस का प्रकोप शुरू होने के बाद से अब तक प्रधानमंत्री मोदी और इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के बीच तीन बार टेलिफोन पर बातचीत हो चुकी है. दोनों की बातचीत में कोरोना महामारी के खिलाफ साझा लड़ाई के लिए टेक्नॉलजी और वैज्ञानिक अनुसंधानों के स्तर पर आपसी तालमेल पर सहमति बनी.