भारत ने चाइनीज ऐप को बैन कर, चीन को दिए ये सख्त संदेश

China-Xi-Jinping
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

नई दिल्ली. देश की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए आईटी एवं इलेक्ट्रॉनिक्स मंत्रालय ने कल 59 चीनी एप्स को भारत में बैन कर दिया. सुरक्षा एजेंसियों ने सरकार से ये निवेदन किया था कि चीन के कुछ एप्स को भारत में बैन कर देना चाहिए क्योंकि ये एक बड़े पैमाने पर हमारा डेटा चोरी कर रहे हैं, जिसका गलत इस्तेमाल किया जा सकता है.

सुरक्षा एजेंसियों का कहना था कि ये ऐप्स यूजर्स के डेटा को चुराकर, उन्हें भारत के बाहर स्थित सर्वर को अवैध तरीके से भेजते हैं. जिसके बाद सरकार ने Tik tok, Cam scaner, Share It, Helo, Vigo Video, UC Browser, Club Factory, Mi Video Call-Xiaomi (शाओमी), Viva Video, WeChat और UC News जैसे मशहूर ऐप्स बैन कर दिए

इन 59 चीनी एप्स को बैन करने का एक मकसद चीन को कड़ा संदेश देना भी है. बॉर्डर पर भारत और चीन के बीच तनातनी चल रही है. इस तनातनी के बीच चीन को ऐसा लगता था कि भारत में उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई नहीं हो सकती है. ऐसे में सरकार के इस कदम से ये साफ समझा जा सकता है कि मोदी सरकार देश की सुरक्षा के लिए कोई भी कदम उठाने के लिए तैयार है.

 आपको बता दें कि हाल ही में चीन के एक बड़े अखबार ने कहा था कि भारत चीन पर बहुत निर्भर है, अगर भारत चीन पर प्रतिबंध लगाता है तो नुकसान सिर्फ भारत का ही होगा. ऐसे में सरकार ने चीन को ये भी संदेश देने की कोशिश की है कि भारत चीन पर निर्भरता को कम कर रहा है और चीनी सामानों के बिना भी रहा जा सकता है.

भारत ने चीन को यह भी सख़्त संदेश दिया है कि अगर वो देश के खिलाफ कोई कदम उठाएगा तो उसे सैन्य मोर्चे के साथ-साथ आर्थिक मोर्चे पर भी करारा जवाब मिलेगा. आपको बता दें कि कुछ समय पहले अमेरिका ने भी डेटा चोरी के कारण ही टिकटॉक समेत कई चीनी एप्स पर प्रतिबंध लगा दिया था.