राजस्थान में गर्मी से घर की छतों पर रखी टंकियों में उबला पानी

जयपुर, 03 जुलाई (हि.स.). दक्षिण-पश्चिमी मानसून की सुस्ती के कारण राजस्थान में गर्मी लौट आई है. मानसून के प्रदेश में प्रवेश के बाद हुई बारिश से बढ़ी उमस और तापमापी के पारे का हाल यह है कि पश्चिमी इलाका भीषण लू की चपेट में है तो पूर्वी इलाकों में भी गर्मी तीखे तेवर दिखा रही है. दोपहर में सूर्यकिरणों की तीक्ष्णता के कारण घर व प्रतिष्ठानों की छतों पर रखी टंकियों का पानी उबलने लगा है. नल खोलते ही गर्म पानी मौसम में तापमान की उग्रता का अहसास करवा रही है.

मौसम विभाग ने प्रदेश के पश्चिमी इलाकों में लू का दौर थमने और चक्रवाती तंत्र सक्रिय होने पर धूलभरी हवा चलने का पूर्वानुमान जताया है. दूसरी तरफ अगले 48 घंटे में पूर्वी राजस्थान में मानसूनी हलचल बढऩे व करीब 18 जिलों में बौछारें गिरने की संभावना जताई गई है. बीते 24 घंटे में प्रदेश में दिन के तापमान में उतार-चढ़ाव रहा. सरहदी जिले बीकानेर और जैसलमेर जिले में अब भी लू के कारण पारे का मिजाज गर्म बना हुआ है. बीती रात के तापमान में हुई आंशिक बढ़ोतरी के साथ ही उमस के कारण भी मौसम में गर्माहट बढ़ रही है. 

राजधानी जयपुर में शुक्रवार को छितराए बादलों की आवाजाही के साथ गर्मी के तेवर तीखे रहे. सूर्योदय के साथ ही सुबह शहर का अधिकतम तापमान 33 डिग्री सेल्सियस पर जा पहुंचा. सुबह शहर में चली उत्तर-पश्चिमी हवा के असर से मौसम शुष्क रहा. दिन के तापमान में हो रही बढ़ोतरी का असर अब रात में भी पडऩे लगा है. बीती रात जयपुर के तापमान में पारा पांच डिग्री उछलकर 32 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ. हाड़ौती अंचल के अलावा अन्य शेष जिलों में बीती रात पारा 30 डिग्री या उससे ज्यादा रिकॉर्ड किया गया. बीकानेर और फलोदी बीती रात सबसे गर्म रहे.

हिन्दुस्थान समाचार/रोहित/संदीप/सुनीत

Leave a Reply

%d bloggers like this: