बलिया की बेटी पहुंची Harvard University

उत्तरप्रदेश के बलिया जिले से ताल्लुक रखने वाली श्रिम्पी को हार्वर्ड यूनिवर्सिटी जाने का मौका मिला है. वर्तमान में पुणे में रह रहीं श्रिम्पी उपाध्याय को हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में होने वाली कॉन्फ्रेंस में हिस्सा लेंगी.

पेशे से डॉक्टर ए.एस. उपाध्याय की बेटी श्रिम्पी को हार्वर्ड के एक प्रतिष्ठित प्रोग्राम, Harvard College Project for Asian and International Relations (HPAIR) में शामिल होने के लिए चुना गया है.

कॉन्फ्रेंस में हिस्सा लेने के लिए वह 12 फरवरी को अमेरिका के लिए रवाना होंगी. अमेरिका के मैसाचुसैट्स शहर के कैंब्रिज में स्थित इस यूनिवर्सिटी में यह कॅान्फ्रेंस 15-18 फरवरी तक आयोजित होनी है.

Letter of Harvard University

300 लोगों को ही मिला मौका

वह विश्व के उन 300 प्रतिनिधियों में शामिल हैं जो इस प्रोग्राम में हिस्सा ले रहे हैं. उनका चयन इंटरनेशनल एप्लीकेंट्स के बीच में से किया गया है. वहीं हार्वर्ड में मौका पाना उनके लिए एक बड़ी उपलब्धि है.

HPAIR स्टूडेंट ऑर्गनाइजेशन है

यह एक इंटरनेशनल ऑर्गनाइजेशन है. यह महत्वपूर्ण आर्थिक, राजनीतिक और सामाजिक मुद्दों की चर्चा को सुविधाजनक बनाने के लिए एक मंच प्रदान कर रहा है. खास बात यह है कि इस कॉन्फ्रेंस में पहले कई चर्चित नाम हिस्सा ले चुके हैं. श्रिम्पी भी इस कॉन्फ्रेंस का हिस्सा बनेंगी.

इस कॉन्फ्रेंस में पहले रिपब्लिक आफ कोरिया के प्रेजिडेंट और नोबल प्राइज विजेता किम डे जून, आस्ट्रेलिया के गवर्नर जनरल पीटर हॅालिंग्सवर्थ, यूनाइटेड नेशंस की सेक्रेटरी जनरल बान की मून जैसे कई दिग्गजों ने इसमें हिस्सा लिया है.

बलिया की हैं श्रिम्पी

उत्तरप्रदेश के बलिया की मूल निवासी श्रिम्पी उपाध्याय ने मुंबई से कंप्यूटर साइंस में ईंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की है. श्रिम्पी वर्तमान में पुणे में बार्कलेज ग्लोबल टेक्नोलॉजी सर्विसेज के साथ काम कर रही हैं. इनके पिता डॅाक्टर ए.एस उपाध्याय IIT Kharagpur के पूर्व छात्र रह चुके हैं. वर्तमान में वह वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय में ज्वाइंट डायरेक्टर की पोस्ट पर हैं.

%d bloggers like this: