गुजरातः सूरत में महिला बैंककर्मी से पुलिसवाले ने की मारपीट, वित्तमंत्री के कहने लिया गया एक्शन

Nirmala Sitharaman-Gujarat Police
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

सूरत, गुजरात।

सूरत शहर के सरथाना थाने के एक सिपाही ने एक बैंक में महिला कर्मचारी सहित दो लोगों के साथ कथित तौर पर मारपीट की. पूरी घटना सीसीटीवी पर कैद हो गई है. शिकायत के बाद पुलिस कांस्टेबल के खिलाफ जांच कर रही है.

केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीताराम ने भी इस बारे में ट्वीट कर पुलिस आयुक्त ब्रह्मभट्ट और कलेक्टर डॉ. धवल पटेल को कार्रवाई करने का निर्देश दिया है. पुलिस आयुक्त के आदेश पर जांच के बाद सरथाना पुलिस स्टेशन के कांस्टेबल धनश्याम अहीर को निलंबित कर गिरफ्तार कर लिया गया है.

पुलिस कांस्टेबल का महिला कर्मचारी सहित दो लोगों के साथ कथित तौर पर मारपीट करने का मामला बैंक के सीसीटीवी में कैद हो गया है. ट्विटर पर मारपीट का वीडियो वायरल होने और उस पर केन्द्रीय वित्त मंत्री के संज्ञान लेने पर कार्रवाई की गई है.

घटना के संबंध में पीड़ित महिला कर्मचारी ने बताया कि उन्होंने बुजुर्ग व्यक्ति को पासबुक में एंट्री के लिए बाद में आने कहा था क्योंकि बैंक का सर्वर डाउन था. इस पर बुजुर्ग एक पुलिस कांस्टेबल को लेकर आ गया. कांस्टेबल ने हमला कर दिया.

पीड़िता ने बताया कि मेरे शिकायत करने पर भी पुलिस ने भी कुछ नहीं करने के लिए मुझे मजबूर कर दिया. इसके बाद मेरे पति को भी चुप कराया जा रहा था. महिलाकर्मी ने बताया कि मारपीट के बाद वीडियो वायरल होने के बाद वित्त मंत्री निर्मली सीतारमण की वजह से कार्रवाई की गई है.

इस संबंध में आरोपित कांस्टेबल घनश्याम अहीर ने बताया कि बैंक में पासबुक एंट्री कराने के लिए मेरे फूफा तीन-चार दिन से रोज चक्कर लगा रहे थे. उनके कहने पर मैं वहां गया और आईकार्ड दिखाया. इस पर उससे उत्तेजक शब्दों में बात की गई और मुझे बाहर निकलने के लिए कहा गया.

आरोपी पुलिसकर्मी ने कहा कि इन लोगों ने ट्विटर पर एक वीडियो वायरल किया है. इसलिए मेरा निवेदन है कि लोगों के समाने सच्चाई सामने आना चाहिए.

वहीं सूरत के डीसीपी प्रशांत शुम्बे ने कहा कि उन्होंने घटना के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी. सरथाना पुलिस स्टेशन के कांस्टेबल धनश्याम को गिरफ्तार कर लिया गया है. उसे निलंबित कर दिया गया है. उन्होंने कहा कि ऐसी घटनाएं पुलिस के लिए दुखद हैं.

हिन्दुस्थान समाचार/हर्ष