प. बंगालः राज्यपाल ने ममता को चिट्ठी लिखकर पूछा- बंगाल के किसानों को क्यों नहीं लेने दी जा रही केंद्रीय वित्तीय मदद

Governor Jagdeep Dhankhar
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

कोलकाता, प. बंगाल।

‘प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि’ को पश्चिम बंगाल में लागू नहीं किए जाने को लेकर राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने एक बार फिर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर हमला किया है. उन्होंने एक चिट्ठी मुख्यमंत्री के नाम लिखी है जिसमें पूछा है कि जब देशभर के किसान केंद्र सरकार से वित्तीय मदद ले रहे हैं तो बंगाल के किसानों को इससे वंचित क्यों रखा जा रहा है?

अपनी चिट्ठी में उन्होंने लिखा है कि यह बहुत अधिक दुर्भाग्यजनक है कि बंगाल में अन्नदाताओं के साथ ऐसा बुरा बर्ताव किया जा रहा है. उन्होंने लिखा कि हमारे राज्य में 70 लाख किसान पीएम किसान सम्मान निधि के लाभ से वंचित हैं. राज्य में किसानों को पहले ही 8,400 करोड़ रुपये का नुकसान हो चुका है, जो उनका अधिकार था.

राज्यपाल ने लिखा कि पूरे देश में प्रत्येक किसान को अब तक 12 हजार रुपये मिल चुके हैं. हमारे किसानों को राज्य सरकार की असंवेदनशीलता और टकराव की स्थिति के कारण इस वैध अधिकार से वंचित किया गया है. मैंने आपको और प्रशासन को इस मुद्दे को गंभीरता से भेजा है. प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि एक केंद्रीय योजना है जो एक दिसंबर 2018 से चालू है. राशि सीधे लाभार्थियों के बैंक खातों में स्थानांतरित की जाती है, कोई बिचौलिया या आयोग नहीं है.

राज्य सरकार को केवल किसान परिवारों की सूची भेजने की आवश्यकता थी ताकि योजना का लाभ उठाया जा सके. मैं यह समझने में विफल हूं कि यह राज्य सरकार द्वारा क्यों नहीं किया गया है. यह दुर्भाग्यपूर्ण चूक है और किसानों के हितों के लिए हानिकारक है. किसानों पर यह क्रूर मजाक और ऐतिहासिक अन्याय हमें यह एहसास दिलाता है कि शासन को बड़े पैमाने पर लोगों के हित के लिए होना चाहिए.

पीएम किसान निधि के तहत देश में अब तक किसानों को लगभग 92 हजार करोड़ रुपये मिल चुके हैं, जबकि कोई राशि हमारे राज्य में नहीं आई है. मेरा आपसे आग्रह है कि हमारे किसानों के साथ हो रहे अन्याय को कम करने के लिए कदम उठाएं.

हिन्दुस्थान समाचार/ओम प्रकाश