छत्‍तीसगढ़- अच्छी सड़कें आर्थिक विकास का पैमाना : भूपेश बघेल

रायपुर, 19 नवम्बर
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मंगलवार को राजधानी रायपुर में एक हजार 983 करोड़ रुपये की सड़क परियोजनाओं की आधारशिला रखी. लोक निर्माण विभाग द्वारा ए.डी.बी सहायता से प्रत्येक विभिन्न जिलों में 13 सड़कों का उन्नयन एवं पुनर्निर्माण का कार्य किया जाएगा. इनकी कुल लंबाई 479 किलोमीटर की होगी . इस अवसर पर समारोह की अध्यक्षता लोक निर्माण मंत्री ताम्रध्वज साहू ने की.

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि किसी भी राज्य के तीव्र आर्थिक विकास में सड़कों की महत्वूपर्ण भूमिका होती है. इसलिए अच्छी सड़कों को विकास का पैमाना माना जाता है. इन सड़कों के बनने से जिला मुख्यालयों सहित गांव-कस्बे अच्छी सड़कों से जुड़ेंगे, वहीं आवागमन की बेहतर सुविधा भी लोगों को मिलेगी.

छत्तीसगढ़ के समन्वित विकास के लिए हमारी सरकार द्वारा शिक्षा, स्वास्थ्य तथा रोजगार आदि के क्षेत्र में अनेक योजनाओं को लागू कर इसका बेहतर ढंग से क्रियान्वयन किया जा रहा है. इन क्षेत्रों में अनेक नई-नई योजनाएं भी बनाई गई है. इनके साथ कई सड़कों के उन्नयन तथा निर्माण कार्य को काफी तादात में लिया गया है.

मुख्यमंत्री बघेल ने बताया कि कोरबा से बिलासपुर मार्ग के सुधार और मरम्मत कार्य के लिए 30 करोड़ रूपये की स्वीकृति भी दी गई है. उन्होंने कहा कि सड़क निर्माण के अधूरे कार्यों को पूर्ण करने के लिए केन्द्रीय भू-तल परिवहन मंत्री से चर्चा हुई है और उसे गति देने के लिए आवश्यक पहल की जा रही है. उन्होंने सड़कों का निर्माण गुणवत्ता के साथ समय पर पूर्ण किए जाने के लिए विशेष जोर दिया.

लोक निर्माण मंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य के विकास के लिए अधोसंरचना को मजबूती प्रदान करना जरूरी है. इसके तहत क्षेत्र में जरूरत के मुताबिक सड़क, भवन तथा पुल-पुलिया आदि निर्माण कार्यों को तेजी से स्वीकृत कराए जा रहे हैं . उन्होंने बताया कि ए.डी.बी. लोन-3 के अंतर्गत प्रदेश में लगभग तीन हजार 500 करोड़ रूपये की राशि के 25 सड़कों के उन्नयन तथा पुनर्निर्माण कार्य स्वीकृत किये गए हैं जिसके तहत 870 किलोमीटर लंबाई के सड़कों का पुनर्निर्माण तथा उन्नयन कार्य किया जाएगा. इसके प्रथम चरण में आज 13 सड़कों के पुनर्निर्माण तथा उन्नयन के लिए भूमिपूजन किया गया.

मुख्यमंत्री ने जिन सड़क परियोजनाओं के उन्नयन एवं पुनर्निर्माण कार्य का शिलान्यास किया, इनमें 287.44 करोड़ रूपये की लागत से रायपुर के टिकरापारा-सेजबहार- सेमरा-भखारा-धमतरी मार्ग, 148.76 करोड़ रूपये की लागत से गरियाबंद जिले में पाण्डुका-जतमई- घटारानी-गायडबरी-मड़ेली-मुड़ागांव मार्ग, 149.47 करोड़ रूपये की लागत से बलौदाबाजार, रायपुर एवं महासमुंद जिले के घोटिया-पलारी-वटगन-गिधपुरी-चिखली-समोदा-अछोला-तुमगांव मार्ग, 157.35 करोड़ रूपये की लागत से राजनांदगांव जिले में बिहरीकला-दनगढ़-सोमाटोला-गोटाटोला-खड़गांव मार्ग शामिल हैं.

इसी प्रकार 88.09 करोड़ रूपये की लागत से राजनांदगांव एवं बालोद जिले के डाेंगरगांव-खुज्जी-पिनकापार-जेवरतला मार्ग, 154.35 करोड़ रूपये की लागत से महासमुंद जिले के लम्बर-बोड़ेसरा-बिरकोल-सिंघोरा मार्ग, 102.55 करोड़ रूपये की लागत से दुर्ग एवं बालोद जिले के अण्डा-रनचिरई-जामगांव मार्ग, 142.57 करोड़ रूपये की लागत से बालोद एवं दुर्ग जिले के करहीभदर- निपानी-मोखा-बटरेल-जामगांव मार्ग, 126.95 करोड़ रूपये की लागत से धमतरी एवं गरियाबंद जिले के कुरूद-मेघा-मगरलोड-अमलीडीह-धौंराभाटा-खिसोरा-पाण्डुका मार्ग और 111.96 करोड़ रूपये की लागत से बिलासपुर जिले के मंगला से भैसाझार मार्ग शामिल हैं.

इसके अलावा 93.53 करोड़ रूपये की लागत से मुंगेली जिले के लोरमी-पैजनिया-मसना-मसनी- जरहागांव मार्ग, 282.39 करोड़ रूपये की लागत से रायपुर एवं धमतरी जिले के बुढ़ेनी-नयापारा- परसवानी-मगरलोड-मोंहदी-बोरसी-भोयना मार्ग और 137.40 करोड़ रूपये की लागत से जांजगीर-चांपा एवं रायगढ़ जिले के सक्ती-टुण्ड्री मार्ग शामिल हैं.

इस अवसर पर खाद्य मंत्री अमरजीत भगत, महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेंड़िया और विधायक सत्यनारायण शर्मा, कुलदीप जुनेजा, लक्ष्मी ध्रुव, विनोद चन्द्रकार, धरमजीत सिंह, रामकुमार यादव, विकास उपाध्याय, अपर मुख्य सचिव अमिताभ जैन सहित बड़ी संख्या में नागरिक उपस्थित थे.

हिन्‍दुस्‍थान समाचार/गायत्री

Leave a Reply