गोंडा-गांववालों का शुद्ध पेयजल पीने का सपना कब होगा पूरा!

ff
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

गोण्डा. मोतीगंज. सरकार द्वारा ग्रामीणों को शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने का सपना कैसे होगा पूरा जब प्रधान जी ने खराब इंडिया मार्का हैंडपंप को नहीं कराया मरम्मत.

यह हाल है झंझरी विकासखंड के ग्राम पंचायत नौबरा का है.

ग्राम पंचायत में लगे दर्जन भर इंडिया मार्का हैंड पंप खराब होकर धूल चाट रहे हैं, या तो प्रदूषित जल व रेत दे रहे हैं.ग्राम पंचायत प्रधान नौबरा केशव राम वर्मा द्वारा इंडिया मार्का हैंडपंप को ठीक न कराए जाने से इस भीषण गर्मी में छोटे घरेलू नल का दूषित पानी पीकर ग्रामीण अपनी प्यास बुझाने को मजबूर है.

विभाग के जिम्मेदार ग्रामीणों की पेयजल की समस्या को जानते हुए भी इन्हें दुरुस्त करवाने मैं अपनी रुचि नहीं ले रहे हैं. ग्रामीण क्षेत्र का स्कूल हो या गांव मजरा हो या चौराहा लगभग सभी स्थानों पर लगे इंडिया मार्का हैंड पंप खराब है. जिसकी शिकायत कई बार नौबरा गांव निवासी समाजसेवी सिया राम बर्मा व राम शंकर बर्मा द्वारा मुख्य विकास अधिकारी व झंझरी विकास खंड के जिम्मेदार अधिकारियों से की है.

लेकिन महीनों से खराब पड़े इंडिया मार्का हैंडपंप को ठीक कराने मे न तो ग्राम प्रधान व जिम्मेदार अधिकारी कोई रूचि ले रहे है. इस भीषण गर्मी में ग्रामीणों को शुद्ध पेयजल नहीं उपलब्ध हो रहा है और मजबूरन छोटे नालों से लोगों को अपनी प्यास बुझाने के लिए पानी पीना पड़ रहा है.

ग्राम वासियों का कहना है की सरकार द्वारा लोगों को शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने के लिए इंडिया मार्का हैंड पंप लगवाया गया था लेकिन देखरेख के अभाव में कई हैंडपंप महीनों से खराब पड़े हैं और उन्हें ठीक कराने में जिम्मेदार कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं.

लोगों को शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने के लिए लगवाए गए हैंड पंप अब देखरेख के अभाव में निस प्रोज्य साबित हो रहे हैं. शिकायतकर्ताओं ने ग्राम प्रधान पर आरोप लगाया है कि प्रधान द्वारा ग्राम पंचायत में खराब हैंडपंप की संख्या कम करके शासन को भेजी जाती है इसीलिए स्थिति में सुधार नहीं हो पा रहा है.

ग्रामीणों ने मुख्य विकास अधिकारी को दिए गए शिकायती पत्र में आरोप लगाया है कि ग्राम पंचायत के अनेक माजरो व विद्यालयों में इंडिया मार्का हैंड पंप मौजूद है. जिसमें दर्जनभर से ज्यादा इंडिया मार्का हैंडपंप खराब है.ठीक कराने के लिए कोई भी कर्मचारी व मिस्त्री गांव तक ठीक तो नहीं कराया और ना कोई झांकने ही आया.

हिन्दुस्थान समाचार /इमरान आरिफ