आप अपने ATM कार्ड पर पा सकते हैं 10 लाख रुपए तक का इंश्योरेंस,जानिए इससे जुड़ी बड़ी बातें
  • सभी बैंक अपने ग्राहकों को एटीएम कार्ड पर इन्श्योरेंस देते हैं
  • अगर किसी एटीएम होल्डर की मौत हो जाती है तो उसके परिजनों को दो से पांच महीनों के भीतर बैंक की उस ब्रांच को जानकारी देनी होगी

नई दिल्ली. आज के समय में लगभर देश के हर शख्स का बैंक में खाता है और इनमें से ज्यादातर लोगों के पास एटीएम कार्ड है.लेकिन हम में से अधिकांश लोग एटीएम और क्रेडिट कार्ड का प्रयोग नकदी निकालने और शॉपिंग के लिए करते हैं. मगर इसके अलावा भी एटीएम कार्ड के कई और फायदें भी है जो शायदा आप नहीं जानते होगें.आज हम आपकों एटीएम कार्ड के ऐसे ही कुछ फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं.

एटीएम कार्ड का सबसे बड़ा फायदा जो आपको मिलता है वो है 5 से 10 लाख तक का इन्श्योरेंस कवर.अगर आपके पास किसी प्राइवेट या गवर्नमेंट बैंक का एटीएम कार्ड है तो आपको फ्री में एक्सीडेंटल इन्श्योरेंस पा सकते हैं.

मिलेगा इन्श्योरेंस प्लान-

सभी बैंक अपने ग्राहकों को एटीएम कार्ड पर इन्श्योरेंस देते हैं. ये बीमा 25,000 रुपए से लेकर 5 लाख रुपए और किसी-किसी बैंक में 10 लाख रुपए तक का होता है. इस योजना को शुरु हुए कई साल हो गए हैं.

आपके डेबिट-क्रेडिट कार्ड के साथ जो इंफॉर्मेशन ब्रोशर आता है उसमें इसकी पूरी जानकारी होती है तो आपको इसे ध्यान से पढ़ना चाहिए और जानना चाहिए कि आपके पास जो क्रेडिट या डेबिट कार्ड है उस पर आपको कितना दुर्घटना बीमा मिल सकता है.

इंश्योरेंस के लिए ऐसे करें क्लेम

अगर किसी एटीएम होल्डर की मौत हो जाती है तो उसके परिजनों को दो से पांच महीनों के भीतर बैंक की उस ब्रांच को जानकारी देनी होगी जहां उसका अकाउंट है. साथ ही उसी ब्रांच में मुआवजे का एप्लीकेशन देना होगा.

बैंक चेक करता है ये जानकारी-

मुआवजा देने के पहले बैंक यह चेक करेगा कि संबंधित व्यक्ति ने 60 दिनों के अंदर वित्तीय लेनदेन किया है या नहीं. इस इन्श्योरेंस के तहत विकलांगता से लेकर मौत होने तक पर अलग-अलग तरह के मुआवजे का प्रावधान है.

साधारण एटीएम, मास्टरकार्ड, क्लासिक एटीएम पर अलग-अलग तरह की मुआवजा राशि मिलती है. इतना ही नहीं आप बैंक में जाकर यह पता कर सकते हैं कि आपके कार्ड पर कितने का बीमा कवर मिला हुआ है.

बैंक को दिखाने होगें ये डॉक्युमेंट

अगर कोई भी शख्स इंश्योरेंस के लिए क्लेम करना चाहता है तो उसे एक्सीडेंट या मृतक से जुड़े सभी डॉक्युमेंट्स बैंक में दिखाने होगें. संबंधित व्यक्ति अगर अस्पताल में है तो उसके सभी मेडिकल डॉक्युमेंट भी पेश करने होते हैं. इसके अलावा अगर उसकी मृत्यु हो गई है तो उसकी पोस्टमार्टम रिपोर्ट, पुलिस रिपोर्ट, डेथ सर्टिफिकेट और ड्राइविंग लाइसेंस भी उपलब्ध करवाने होते हैं.

Trending Tags: Business News in Hindi, Banking and Loan, Atm Card Insurance Scheme, Atm Card Insurance Claim Hindi, Atm Card Insurance Sbi, Latest News in Hindi, Today News in Hindi, Atm Card, Ten Lakh Rupees Insurance.

%d bloggers like this: