गांगुली ने सचिन के स्ट्राइक न लेने का खोला राज

पूर्व भारतीय कप्तान और वर्तमान भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) अध्यक्ष सौरव गांगुली ने खुलासा किया है कि सचिन तेंदुलकर ने क्यों कभी क्रिकेट मैच की पहली गेंद पर स्ट्राइक नहीं ली.

गांगुली ने कहा कि यह वह खिलाड़ी था जिसने भारत के लिए बल्लेबाजी की शुरुआत हमेशा नॉनस्ट्राइक से की.

बीसीसीआई के आधिकारिक ट्विटर पर अपलोड किए गए एक वीडियो में, मयंक ने गांगुली से पूछा, “क्या सचिन पाजी आपको एकदिवसीय मैचों में बल्लेबाजी के लिए स्ट्राइक लेने के लिए मजबूर किया करते थे?”

जवाब में गांगुली ने बताया,”मैं हमेशा पहली गेंद का सामना करता था और जब भी उनसे मैं स्ट्राइक लेने को कहता था, ऐसे में उसके पास इसके दो जवाब हुआ करते थे, एक, उनका मानना था कि यदि उनका फॉर्म अच्छा है तो उन्हें नॉन-स्ट्राइकर एंड पर बने रहना चाहिए.और जब उसका फॉर्म अच्छा नहीं था, तो वह कहता था कि मुझे नॉन-स्ट्राइकर के अंत में रहना चाहिए, क्योंकि यह मुझ पर दबाव डालता है उनके पास अच्छे फॉर्म और खराब फॉर्म दोनों का एक ही जवाब था.”


गांगुली ने कहा कि हालांकि उन्होंने एक या दो बार सचिन को स्ट्राइक पर जाने के लिए मजबूर कर दिया था.गांगुली ने बताया, “आप सचिन के करीब से जाओ और नॉन स्ट्राइकर एंड पर खड़े हो जाओ.इसके बाद वो टीवी पर होता था जिसके बाद उसपर पहली गेंद का सामना करने का दबाव होता था।”

गांगुली और तेंदुलकर ने भारत के लिए एकदिवसीय क्रिकेट में एक साथ 47.55 की औसत के साथ 176 पारियों में 8,227 रन बनाए हैं, जो एक रिकॉर्ड है.तेंदुलकर ने खेल के सबसे लंबे प्रारूप में 15,921 रन बनाये हैं.उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में 51 शतक बनाए हैं.

एकदिवसीय क्रिकेट में उन्होंने 18,426 रन बनाए हैं, जिसमें 49 शतक शामिल हैं.तेंदुलकर ने 24 वर्षों के अपने क्रिकेट करियर में छह विश्व कप में देश का प्रतिनिधित्व किया.वह 2011 विश्व कप विजेता टीम का हिस्सा थे.

दूसरी ओर, गांगुली सबसे सफल भारतीय कप्तानों में से एक हैं.उनके नेतृत्व में, भारत ने पाकिस्तान को पाकिस्तान में पहली बार टेस्ट श्रृंखला में हराया.उन्होंने 2003 के क्रिकेट विश्व कप के फाइनल में भी भारत का मार्गदर्शन किया.गांगुली ने 113 टेस्ट और 311 एकदिवसीय मैच खेले.बाएं हाथ के बल्लेबाज ने अपने अंतरराष्ट्रीय करियर में सभी प्रारूपों में 18,575 रन बनाए हैं.अक्टूबर 2019 में, गांगुली बीसीसीआई के अध्यक्ष बने.

हिन्दुस्थान समाचार/सुनील

Leave a Reply

%d bloggers like this: