बिहार में फिर गंगा नदी खतरे के निशान से ऊपर, इस जिले में मंडराया बाढ़ का खतरा, दर्जनों गांवों में घुसा पानी

भागलपुर, 21 सितम्बर. बिहार के भागलपुर जिले के गंगा से सटे दियारा क्षेत्रों में गंगा नदी का कहर जारी है. गंगा नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है. जिले दियारा क्षेत्र के सबौर, कहलगांव, इस्माइलपुर सहित भागलपुर शहरी क्षेत्र में गंगा से सटे मोहल्लों में बाढ़ का पानी प्रवेश कर गया है.

सबसे ज्यादा परेशानी नवगछिया अनुमंडल के इस्माइलपुर प्रखंड के दर्जनों गांव में देखने को मिल रही है. गंगा के साथ ही कोसी नदी भी अपने प्रचंड रूप में आ चुकी है.

भागलपुर से सबौर होकर कहलगांव जाने वाले सड़क मार्ग पर भारी वाहनों का परिचालन एहतियात के तौर पर बंद कर दिया गया है. शनिवार को भी गंगा के जल स्तर में लगातार वृद्धि जारी रही है.

गंगा नदी खतरे के निशान 31.60 सेंटीमीटर से ऊपर 32.90 सेंटीमीटर पर बह रही है. इस्माइलपुर प्रखंड के पांच पंचायत में छोटी परबत्ता पंचायत के कुछ वार्ड को छोड़ कर बाकी सभी चारों पंचायत बाढ़ की चपेट में आ गये हैं.

पीड़ित परिवार सुरक्षित स्थानों पर अपने परिवार के साथ जा रहे हैं. बाढ़ पीड़ित अपने घर की छत या फिर सड़कों पर शरण ले रहे हैं. जल स्तर में वृद्धि के बाद प्रशासनिक स्तर से अब तक सात छोटी नाव की व्यवस्था की गई है.

जल स्तर में वृद्धि के बाद इस्माइलपुर सीओ सुरेश प्रसाद ने अलर्ट जारी कर दिया है. सीओ ने बताया कि बाढ़ की स्थिति भयावह है. अंचल क्षेत्र के 23 हजार रकवा बाढ़ की चपेट में आ गया है.

15 हजार से अधिक लोग बाढ़ से पूरी तरह प्रभावित हैं. उन्होंने कहा कि बाढ़ राहत को लेकर प्रशासनिक स्तर से सभी तैयारी पूरी कर ली गई है.

बाढ़ को देखते हुए नवगछिया एसडीओ मुकेश कुमार ने इस्माइलपुर सीओ को तत्काल लोगों के आवाजाही के लिए नाव की व्यवस्था कराने और बाढ़ प्रभावित परिवार का निरीक्षण कर रिपोर्ट भेजने का निर्देश दिया है.

गंगा नदी के जल स्तर में वृद्धि के चलते प्रखंड के इस्माइलपुर पश्चिमी भिट्ठा पंचायत के रामनगर, रामदिरी, नयाटोला फुलकिया, छट्ठू सिंह टोला, कचहरी टोला, इस्माइलपुर पूर्वी भिट्ठा पंचायत के 519 टोला, केलाबाड़ी, अलालपुर बासा, भिट्ठा, नवटोलिया, नारायणपुर लक्ष्मीपुर पंचायत के निज टोला आदि दो दर्जन से अधिेक गांव व टोला बाढ़ से प्रभावित है.

उधर गंगा और कोसी नदी के जल स्तर में अप्रत्याशित बढ़ोतरी होने से खरीक प्रखंड के कोसी पार इलाके लोकमानपुर और सिंहकुंड में बाढ़ की स्थिति उत्पन्न हो गई है.

लोकमानपुर के निचले इलाकों में बाढ़ का पानी घुसने से अफरा-तफरी की स्थिति उत्पन्न हो गई है. स्थानीय लोगों ने सुरक्षित बाहर निकलने के लिए जिला प्रशासन से नौका परिचालन कराने की मांग की है.

इस संदर्भ में अंचलाधिकारी ने कहा कि बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए हर संभव प्रयास किया जाएगा. गंगा का पानी बढ़ने के कारण सबौर से घोघा के बीच खनकित्ता गांव के पास एनएच-80 पर भारी वाहनों का परिचालन रोक दिया गया है.

अभी दोनों ओर ट्रकों की लंबी कतार लगी है. एचएच के अधिकारियों का कहना है कि जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है. यदि जलस्तर बढ़ना जारी रहा तो आवागमन पूरी तरह बाधित हो सकता है.

खनकित्ता गांव के पास कल्वर्ट के किनारे करीब तीन-चार मीटर तक कटाव हो गया लेकिन राहत दल ने वहां बांस बल्ली, मिट्टी भरे बैग और लोहे के जाली डालकर कटाव रोकने का प्रयास किया लेकिन जलस्तर बढ़ने से खतरा पूरी तरह से टला नहीं है. हिन्दुस्थान समाचार/विजय

Leave a Reply

%d bloggers like this: