नौकरी दिलाने के नाम पर जालसाजी, दरोगा का बेटा गिरफ्तार

लखनऊ

साइबर क्राइम सेल और विभूतिखंड थाना की पुलिस ने संयुक्त कार्रवाई में नौकरी दिलाने के नाम पर जालसाजी करने वाले हर्ष विक्रम सिंह को गिरफ्तार किया. हर्ष से पूछताछ हुई तो मालूम हुआ कि उसके पिता पुलिस विभाग में उपनिरीक्षक अर्थात दरोगा पद पर कार्यरत है और वजीरगंज थाने पर ही ड्यूटी कर रहें है.

हजरतगंज क्षेत्राधिकारी अभय कुमार मिश्रा ने गिरफ्तारी के संबंध में बताया कि नवयुवक युवतियों को नौकरी दिलाने के नाम पर जालसाजी करने वाले युवक की शिकायत मिली थी. जब इसकी जांच साइबर क्राइम सेल ने की तो रविवार को जालसाज युवक की लोकेशन विभूतिखंड क्षेत्र में मिली. इसके बाद दोनों टीम घेरेबंदी कर उसे गिरफ्तार कर हजरतगंज ले आई. अभी उससे पूछताछ हो रही है और पुलिस मुकदमा पंजीकृत कर के आगे की कार्यवाही करेगी.

फर्जी एसटीएफ अधिकारी बनकर लूट करने वाला गिरफ्तार

रविवार को ही एक दूसरे मामले में एक फर्जी एसटीएफ अधिकारी को लोगों ने पकड़कर पुलिस को सौंपा. घटनाक्रम के अनुसार मध्य प्रदेश का रहने वाला मारु जाफरी कुछ समय से गणेशगंज, पाण्डेयगंज इलाके में फर्जी एसटीएफ अधिकारी बनकर लोगों के बैग चेक करता था और इसी दौरान बैग में से कैश गायब कर फुर्र हो जाया करता था.

आज जब उसने एक व्यापारी को रोका तो उसे शक हुआ. शक होने पर व्यापारी ने उससे प्रश्न किया. इस पर वह भागने का प्रयास करने लगा. जब व्यापारी ने शोर मचाया और नाका थाना क्षेत्र में उसे पकड़कर नाका थाना पर पहुंचाया.

जब घटनास्थल वजीरगंज थाना क्षेत्र का होने के कारण उसे नाका थाने से वजीरगंज थाने पर भेज दिया गया. कुछ दिनों पूर्व हुए एक मामले में भी जाफरी का नाम सामने आया है, वजीरगंज थाने की पुलिस मुकदमा पंजीकृत कर जांच कर रही है.

हिन्दुस्थान समाचार/ शरद

%d bloggers like this: