भारत को फ्रांस से मिले 5 और राफेल लड़ाकू विमान, जानिए कब आएंगे स्वदेस

rafale
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

नई दिल्ली. भारतीय वायु सेनी की ताकत में अब और बढ़ोत्तरी होने जा रही है. दरअसल, फ्रांस (France) से खरीदे गए 36 राफेल लड़ाकू विमानों में से पांच और विमान भारत को मिल गए हैं. ये विमान अगले महीने भारत (India) में लाए जाएंगे. इन पांचों विमानों को पश्चिम बंगाल के कलईकुंडा एयरफोर्स स्टेशन पर तैनात किया जाएगा.

ये विमान अभी फ्रांस में हैं, अब भारतीय वायुसेना (India AirForce) पर ये निर्भर है कि वे कब इन विमानों को भारत लाते हैं. अक्टूबर में इन विमानों की भारत पहुंचने की उम्मीद है.

राफेल लड़ाकू विमानों (Rafale Fighter Jets) के भारतीय वायुसेना होने से चीन और पाकिस्‍तान की धड़कनें जरूर तेज हो गई होंगी क्योंकि इन दोनों देशों के लिए राफेल से पार पाना बहुत कठिन है.

राफेल एयरक्राफ्ट सरहद पार किए बिना दुश्मन के ठिकानों को नेस्तनाबूद करने की क्षमता रखता है. बिना एयर स्पेस बॉर्डर क्रॉस किए राफेल पाकिस्तान और चीन के भीतर 600 किलोमीटर तक के टारगेट को पूरी तरह से प्रभावित करने की क्षमता रखता है.

बता दें कि पांच राफेल जेट विमानों का पहला बैच इसी साल 29 जुलाई को भारत पहुंच गया था. राफेल के पहले बैच में शामिल पांच विमानों को 10 सितंबर को एक औपचारिक कार्यक्रम के दौरान भारतीय वायुसेना में शामिल किया गया था. राफेल की तैनाती अंबाला एयरफोर्स स्टेशन (Ambala Airforce Station) पर की गई है.

भारत ने फ्रांस के साथ 36 राफेल विमानों की खरीद के लिए सौदा किया था. 36 राफेल विमानों में से 30 लड़ाकू विमान होंगे और छह प्रशिक्षण विमान होंगे.

राफेल एक मिनट में करीब 60 हजार फीट की ऊंचाई तक उड़ान भर सकता है. ये युद्ध के समय अहम भूमिका निभाने में सक्षम है. हवाई हमला, जमीनी समर्थन, वायु वर्चस्व, भारी हमला और परमाणु प्रतिरोध ये सारी राफेल विमान की खूबियां हैं.

बता दें कि राफेल विमानों को फ्रांस की दसॉल्ड कंपनी बनाती है और दुनिया भर के देशों को ये विमान बेचती है. भारत से पहले राफेल को अफगानिस्तान, लीबिया, माली और इराक में इस्तेमाल किया जा चुका है .